File Photo
File Photo

    नागपुर. राज्य सरकार ने कोरोना के प्रादुर्भाव की वजह से लगाए गये प्रतिबंध में किसी भी तरह की राहत देने से इनकार कर दिया है. इसका मतलब सीधा है कि पूरा महीना ही नहीं बल्कि अगस्त भी लॉकडाउन के साये में ही बीतेगा. इस बीच त्योहारों का सीजन भी पिछले वर्ष की तरह ही फीका रहेगा. स्कूल, कॉलेज और कोचिंग संस्थाओं के भी खुलने की संभावना कम ही नजर आ रही है. डॉक्टरों ने भी अगस्त से कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ने की संभावना व्यक्त की है. 

    पिछले वर्ष कोरोना की वजह से त्योहारों का मजा फीका रहा. बाजारों में उत्साह दिखाई नहीं दिया. लोगों ने घर में ही गणपति उत्सव मनाया था. इस बार भी वही स्थिति बन रही है. अगले माह गुरु पूर्णिमा, नाग पंचमी, रक्षा बंधन सहित विविध त्योहार हैं. सितंबर में गणेश उत्सव भी आएगा लेकिन कोरोना की वजह से राहत मिलने की संभावना कम ही नजर आ रही है. बाजारों में भी रौनक नहीं होने से एक बार फिर व्यापारियों के हाथों से सीजन निकल जाएगा.

    15 अगस्त के बाद प्रादुर्भाव बढ़ने की संभावना 

    इस बीच डॉक्टरों ने संभावना व्यक्त की है कि 15 अगस्त के बाद से कोरोना का प्रादुर्भाव एक बार फिर बढ़ सकता है. संभावना की मुख्य वजह लोगों की लापरवाही ही है. मरीजों की संख्या कम होने के साथ ही इन दिनों कोरोना के नियमों का भी पालन नहीं हो रहा है. बिना मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां सरेआम उड़ाई जा रही हैं. यही वजह है कि डॉक्टरों ने दोबारा प्रादुर्भाव बढ़ने की संभावना व्यक्त की है. माना जा रहा था कि सरकार अनलॉक में और राहत देगी लेकिन मंत्रिमंडल में लिये गये फैसले से साफ हो गया है कि अगले कुछ दिनों तक जारी प्रतिबंध यथावत रहेंगे.