Preity's bank accounts started to be investigated, police custody extended till 20

नागपुर. पांचपावली पुलिस थाने के लॉकअप से अब हाईप्रोफाइल ठग प्रीति दास जेल की सलाखों के पीछे पहुंच गई है. उसके खिलाफ लगातार आ रही शिकायतों को देखते हुए सीपी भूषणकुमार उपाध्याय ने अब जांच क्राइम ब्रांच को सौंप दी है. क्राइम ब्रांच की टीम प्रीति से जुड़े हर मामले की जांच करेगी. पांचपावली थाने में दर्ज मामले में पुलिस हिरासत खत्म होने के बाद शनिवार को दोबारा उसे न्यायालय में पेश किया गया. पुलिस ने 2 दिन हिरासत बढ़ाने की मांग करते हुए न्यायालय को बताया कि प्रीति जांच में सहयोग नहीं कर रही है.

फरियादी से वसूली गई रकम का उसने क्या किया इसकी जांच चल रही है. पुलिस उसके बैंक खातों की जांच करना चाहती है. उसके पास 1 नहीं 2 आधार कार्ड मिले है. दोनों के नंबर अलग-अलग है. इससे साफ है कि ठगी और वसूली की रकम प्रीति अलग-अलग खातों में रखती होगी. बचावपक्ष ने पीसीआर का विरोध करते हुए न्यायालय से कहा कि पुलिस पहले भी 2 बार हिरासत ले चुकी है. जांच में कुछ बाहर नहीं आया है.

न्यायालय ने दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद प्रीति को न्यायिक हिरासत में जेल भेजने के आदेश दिए. प्रीति के खिलाफ अब तक 5 मामले दर्ज हो चुके है. और भी मामले दर्ज होने वाले है. इन सभी मामलों की जांच अब क्राइम ब्रांच करेगी. बताया जाता है कि इंस्पेक्टर भानूदास पिदूरकर और उनकी टीम को जांच का जिम्मा सौंपा गया है.