File Photo
File Photo

  • बेरोजगार हुए लोगों की बढ़ रही परेशानी

नागपुर. कोरोना को रोकने लगाए गए लॉकडाउन की वजह से दिन पर दिन महंगाई बढ़ती जा रही है. लोगों सारी कमाई महंगाई की भेंट चढ़ी जा रही है. राशन से लेकर दवा तक महंगी हो गई है. तेल के भाव आसमान छू रहे हैं. डीजल-पेट्रोल की कीमतों में अंगार लगी हुई है. ऑरेंज सिटी में पेट्रोल 99.80 और डीजल 90.36 रुपए प्रति लीटर बिक रहा है. वहीं इसके कारण ऑटो रिक्शा और लंबी दूरी वाली बस के किराये में तो बढ़ोतरी हो ही गई है लेकिन इसका प्रभाव ई-रिक्शा वालों पर भी पड़ रहा है जो कि डबल किराया वसूल रहे हैं. थोड़ी सी भी दूरी के लिए 80 से 100 रुपये ले रहे हैं. वहीं ऑटो वाले 150 रुपये की जगह 200 से 250 रुपये किराया बता रहे हैं. इससे आम लोग तो परेशान हैं लेकिन कोरोना काल में जो बेरोजगार हो गए हैं वे सबसे अधिक परेशान हैं.

डबल किराये के चलते लोग परेशान

लॉकडाउन की वजह से वाहन में कम सवारी बैठाने का निर्देश हैं. इस निर्देश और पेट्रोल के बढ़े भाव को बताकर जहां ऑटो वाले अधिक किराया वसूल रहे हैं, वहीं इनके नक्शेकदम पर चलकर ई-रिक्शा वाले भी थोड़ी दूरी के अधिक पैसे मांग रहे हैं. यही नहीं बस वाले भी जेब काटने पर तुले हुए हैं. लंबी दूरी की बस में लोगों को पहले की तुलना में ज्यादा जेब हत्की करनी पड़ रही है. पूना से नागपुर आए एक व्यक्ति ने बताया कि इस समय यहां से जब वे गये थे तब 800 रुपये टिकट लगी लेकिन जब वहां से आए तो किराया डबल यानि 1,600 रुपये करीब लिया गया. सभी ट्रैवल्स वालों के किराये में 200 से 250 रुपये का अंतर है. इसमें कोई पूना से नागपुर का किराया 1,400 रुपये ले रहा है तो कोई 1,600 रुपये बता रहा है. कोरोना काल में यात्रा करना सबसे महंगा पड़ रहा है. जिस तरह दिवाली के दौरान बस का किराया बढ़ता है उसी तरह का किराया अभी वसूला जा रहा है.

कोरोना काल में महंगी हुई दवा 

कोरोना संक्रमण से बचने के लिए लोग को कई तरह की दवा खानी पड़ रही है. डिमांड बढ़ने से पेरासिटामोल, विटामिन और सैनिटाइजर की कीमत बढ़ गई है. एक दवा दूकानदर ने बताया कि इस समय पेरासिटामोल, विटामिन सी, जिंक, मल्टी विटामिन की कीमत दवा कंपनियों ने ही बढ़ा दी है. उन्होंने बताया कि कोरोना से संबंधित दवाओं के नये लॉट में 5 से 10 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है.

सब्जी दे रहीं राहत, दालें महंगी 

लॉकडाउन में महगाई बढ़ने के बावजूद सब्जी की कीमत स्थिर है. जो लोगों को राहत दे रही है. यहां तक कि आलू और प्याज के दाम भी कम हैं. लोगों का कहना है कि गनीमत है कि सब्जी की कीमत सामान्य दिनों की तरह ही है. उन्होंने बताया कि यदि सब्जी भी महंगी हो जाती तो परेशानी और बढ़ जाती. लेकिन दाल की कीमतें परेशान कर रही हैं. दालों में अभी गिरावट नहीं है.

कार व बाइक चलाना मुश्किल

लोगों के अनुसार पेट्रोल-डीजल की इस महंगाई के कारण अब बाइक और कार चलाने के लिए भी सोचना पड़ रहा है. पेट्रोल के दाम बढ़ने का असर साफ-साफ दिख रहा है. पहले ऑफिस आने-जाने के लिए हर महीने 1,000 रुपए पेट्रोल पर खर्च हो रहा था. अब लगभग 1,500 रुपए से ज्यादा खर्च हो रहे हैं.