ABVP pressure, university withdraws, refuses to give vice-chancellor speech in anti-naxal program

  • 17 तक नहीं हुई मांग पूरी तो 19 से फिर काम बंद

नागपुर. सातवें वेतन आयोग की सिफारिश के अनुसार वेतन लाभ मिलने की मांग को लेकर राज्यभर में विश्वविद्यालयीन शिक्षकेत्तर और अधिकारियों द्वारा 24 सितंबर से लेखनी बंद आंदोलन किया जा रहा था. लेकिन गुरुवार को उच्च शिक्षा मंत्री के आश्वासन बाद आंदोलन को स्थगित किया गया. इसके साथ ही विवि शिक्षकेत्तर कर्मचारी संयुक्त कृति समिति ने स्पष्ट किया कि यदि 17 अक्टूबर तक मांग पूरी नहीं हुई तो 19 अक्टूबर से दोबारा काम बंद आंदोलन किया जाएगा.

कर्मचारियों के आंदोनल की वजह से आरटीएम नागपुर विवि में प्रशासकीय कामकाज ठप हो गया था. साथ ही संलग्नित महाविद्यालयों के कर्मचारी भी आंदोलन में शामिल होने से अनेक समस्याएं निर्माण हो रही थी. इसका परिणाम भी देखने को मिला. 1 अक्टूबर से होने वाली अंतिम वर्ष की आनलाइन परीक्षा को स्थगित करना पड़ा. छात्रों के परीक्षा प्रवेश पत्र समय से पहले नहीं मिले थे.

अध्यक्ष प्रवीण गोतमारे, चंद्रशेखर शेलके, दिनेश दखने,मारोती बोरकर ने बताया कि सरकार ने 15 दिनों के भीतर मांगें पूरी करने का आश्वासन दिया है. सरकार के आश्वासन के बाद ही आंदोलन को स्थगित किया गया है. लेकिन मांगें पूरी नहीं की गई तो 19 अक्टूबर से एक बार फिर काम बंद आंदोलन किया जाएगा. इस बीच गुरुवार को कर्मचारियों ने पूर्णत: काम बंद आंदोलन किया. महाराजबाग चौक स्थिति विवि की इमारत के सामने दिनभर धरना दिया गया. इसमें विविध कालेजों के शिक्षकेत्तर कर्मचारी भी शामिल हुये.

अब जल्द ही परीक्षा का नया शेड्यूल
अब जब कर्मचारियों, अधिकारियों का आंदोलन 15 दिनों के लिए स्थगित हो गया है तो काम को गति मिलेगी. शुक्रवार से नियमित रुप से कामकाज शुरू हो सकेगा. यही वजह है कि अब स्थगित की गई परीक्षा को लेकर विवि प्रशासन भी सक्रिय हो गया है. विवि की ओर से जल्द ही नया टाइम टेबल घोषित किये जाने की उम्मीद है.

वैसे देखा जाये तो राज्य सरकार शुरू से ही परीक्षाएं लेने के मूड में नहीं थी, लेकिन सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय के बाद विश्वविद्यालयों ने अंतिम वर्ष की परीक्षा की तैयारियां आरंभ की. कालेजों को छात्रों के प्रवेश पत्र भी भेजे गये थे, लेकिन कर्मचारियों के आंदोलन की वजह से कई छात्रों तक प्रवेश पत्र नहीं पहुंच सके थे. यही वजह रही की विवि को एेन वक्त परीक्षाएं स्थगित करने की घोषणा करनी पड़ी.