Big decision on corona vaccination in Maharashtra, people over 18 years of age will get free vaccine
Representative Image

    नागपुर. कोरोना संक्रमण से निपटने और कुछ हद तक बचाव के लिए वैक्सीनेशन को कारगर करार देकर भले ही केंद्र सरकार के निर्देशों के अनुसार वैक्सीनेशन का अभियान शुरू किया गया हो लेकिन गत कुछ दिनों से वैक्सीन ही उपलब्ध नहीं होने के कारण अब अभियान ठप पड़ा हुआ है. वैक्सीन का कोटा खत्म होने से सेंटर्स पर भी सन्नाटा छाया हुआ है. विशेषत: 179 सेंटर्स पर वैक्सीनेशन शुरू किया गया था किंतु अब गत 3 दिनों से 45 प्लस के लोगों का टीकाकरण पूरी तरह बंद किया गया है. उल्लेखनीय है कि देशभर में वैक्सीनेशन को गति देने पर सरकार की ओर से जोर दिया जा रहा है. किंतु देशभर में ही वैक्सीन उपलब्ध नहीं है जिससे इसे लेने के इच्छुक लोगों में सरकार के प्रति रोष फैलता जा रहा है. एक ओर स्वास्थ्य सेवाएं पर्याप्त नहीं, वहीं दूसरी ओर वैक्सीनेशन भी नहीं होने से अब जनता भगवान भरोसे हो गई है.

    केवल 3 सेंटर्स पर को-वैक्सीन

    विशेषत: 45 वर्ष से अधिक उम्र के कुछ लोगों को को-वैक्सीन लगाई गई थी. फिलहाल कुछ मात्रा में को-वैक्सीन उपलब्ध होने के कारण 3 केंद्रों पर को-वैक्सीन का दूसरा डोज देने की प्रक्रिया पूरी की जा रही है, किंतु यहां भी लोग कम आ रहे हैं. जनवरी में देशभर में वैक्सीनेशन शुरू किया गया था. सर्वप्रथम स्वास्थ्य सेवक, उनके बाद फ्रंटलाइन वर्कर्स, बाद में 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को और इसके बाद 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को वैक्सीन देने की प्रक्रिया शुरू की गई. अब चौथे चरण में 18 प्लस को वैक्सीन देने की शुरुआत 1 मई से की गई. किंतु अब कुछ ही दिनों में इस मुहिम को भी ब्रेक लगने की संभावना जताई जा रही है.

    असफल होने की कगार पर अभियान

    -पहला डोज लेने के बाद 4 से 6 सप्ताह के भीतर दूसरा डोज लेना अनिवार्य है. कई लोगों द्वारा पहला डोज तो लिया गया लेकिन अब दूसरा डोज लेने के लिए वैक्सीन ही उपलब्ध नहीं है जिससे देश में कोरोना के खिलाफ वैक्सीनेशन अभियान पूरी तरह विफल होता दिखाई दे रहा है.

    -दूसरे डोज के लिए देरी होने पर वैक्सीनेशन कितना कारगर साबित होगा, इसे लेकर पहला डोज लेने वालों में संभ्रम की स्थिति बनी हुई है. आलम यह है कि देशभर में वैक्सीन को लेकर पहले चरण से ही चिल्लाहट जारी है.

    -वैक्सीनेशन अभियान की तय प्रक्रिया के अनुसार केंद्र सरकार की ओर से राज्य सरकार को वैक्सीन उपलब्ध कराई जाती है जिसके बाद राज्य सरकार इसका वितरण जिला स्तर पर करती है, किंतु शुरुआत से ही वैक्सीन उपलब्ध नहीं होने से लगातार इसकी किल्लत बनी हुई है.

    वैक्सीन उपलब्ध नहीं होने से मंगलवार को शहर के लगभग सभी केंद्र बंद रहे. केवल 3 केंद्रों पर को-वैक्सीन दी गई. किंतु यहां भी पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन उपलब्ध नहीं थी जबकि अन्य केंद्र पूरी तरह बंद रखे गए.

    -डॉ. संजय चिलकर, वैद्यकीय अधिकारी, मनपा.

    आज भी 45 प्लस को वैक्सीन नहीं

    वैक्सीन का कोटा उपलब्ध नहीं होने के कारण बुधवार को भी 45 प्लस को वैक्सीन नहीं दिया जा सकेगा. मनपा के प्रभाकरराव दटके रोग निदान केंद्र को छोड़कर अन्य केंद्रों पर वैक्सीनेशन नहीं होगा. वैक्सीन उपलब्ध होने के बाद ही पुन: अभियान शुरू किया जाएगा. मेडिकल कॉलेज और दटके रोग निदान केंद्रों पर को-वैक्सीन का दूसरा डोज दिया जाएगा. इसी तरह 18 प्लस को मनपा के 3 केंद्रों पर वैक्सीन देने की प्रक्रिया जारी रहेगी.

    -राम जोशी, अति. आयुक्त. मनपा.