China's arbitrary, visa will be granted only after taking Chinese vaccine for Corona Virus
Representative Image

नागपुर. कोरोना संकटकाल में कई तरह की समस्याओं से निपटते हुए स्वास्थ्य महकमे ने परिस्थिति पर नियंत्रण प्राप्त किया. वर्तमान में कोरोना नियंत्रण में है. अब शीघ्र ही इसकी वैक्सीन आने की संभावना जताई जा रही है. वैक्सीन आने के बाद केंद्र सरकार की ओर से वितरण को लेकर प्राथमिकता निर्धारित की जाएगी. वैक्सीन का वितरण करना बड़ी चुनौती है

. अत: इस दृष्टि से तैयार रहने और सूक्ष्म नियोजन करने की अपील मनपा आयुक्त राधाकृष्णन बी. ने की. महल स्थित नगर भवन में स्वास्थ्य अधिकारी और कर्मचारियों के लिए कार्यशाला का आयोजन किया गया. उपमहापौर मनीषा कोठे, वीरेन्द्र कुकरेजा, अति. आयुक्त राम जोशी, नरेन्द्र बहिरवार, संजय चिलकर, साजिद खान, वैशाली मोहकर, डॉ. विजय जोशी आदि उपस्थित थे.

डाटा बेस के आधार पर वितरण

मनपा आयुक्त ने कहा कि वैक्सीन उपलब्ध कराने के लिए निजी अस्पताल और डॉक्टरों को उनकी इकाइयों में कार्यरत स्वास्थ्य कर्मचारियों की जानकारी शीघ्र मनपा को प्रेषित करने के आदेश काफी पहले दिए जा चुके हैं. मनपा को उपलब्ध डाटा बेस के आधार पर ही वैक्सीन का वितरण किया जाना है. अत: जल्द से जानकारी देने की अपील भी उन्होंने की.

आयुक्त ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग की ओर जनता आशा भरी नजरों से देखती है. निश्चित ही विभाग द्वारा कोरोना काल में किया गया कार्य सराहनीय है. अब केंद्र सरकार किसी भी समय सार्वजनिक रूप में वैक्सीन उपलब्ध करा सकती है. आयुक्त ने कहा कि कोरोना संकटकाल में स्वास्थ्य की दृष्टि से कई राष्ट्रीय कार्यक्रमों पर अमल नहीं किया जा सका है, जबकि इसके लिए मनपा को निधि प्राप्त हुई है. अगले 3 माह में इन कार्यक्रमों को प्राथमिकता देने के निर्देश उन्होंने दिए. 

महंगी वैक्सीन होने से कम आपूर्ति

उन्होंने कहा कि वैक्सीन महंगी होने के कारण शुरुआत में आपूर्ति की कमी होगी. इसी वजह से केंद्र स्तर पर वितरण को लेकर प्राथमिकता निश्चित की जा रही है. प्राथमिकता निश्चित करने के लिए शहर को डाटा बेस तैयार करना जरूरी है. सरकारी अस्पतालों के साथ ही निजी अस्पताल, डॉक्टरों की सूची, जिन्हें प्राथमिकता देना है. ऐसे लोगों की सूची तैयार करने की आवश्यकता है.

कोरोना वैक्सीन को सुरक्षित रखने के लिए आवश्यक कोल्ड स्टोरेज भी किसी चुनौती से कम नहीं है. उन्होंने कहा कि जनसंख्या के अनुसार भले ही नागरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर्याप्त न हों, लेकिन अंतिम व्यक्ति तक सेवाओं को पहुंचाने के लिए फूट सोल्जर तैयार करने की चुनौती भी है. इन नियोजन को तुरंत पूरा करने की अपील भी उन्होंने की.