Rail freight dispute: Karnataka, Maharashtra, Kerala are not paying for travel of migrants

    नागपुर. शहर में एक बार फिर बढ़ रहे कोरोना प्रादुर्भाव को देखते हुए स्टेशन पर भी सतर्कता बढ़ा दी गई है. यहां हर यात्री की थर्मल स्कैनिंग की जा रही है. बीच में यह जांच लगभग बंद सी हो गई थी. साथ ही एंटीजन किट के साथ स्पॉट कोरोना टेस्ट की भी व्यवस्था कर दी गई. स्टेशन पर मुंबई छोर पर बने एफओबी की निकासी के लिए उपयोग किया जा रहा है.

    अधिकांश यात्री इसी एफओबी से होते हुए स्टेशन के बाहर निकलते हैं. ऐसे में जिस भी प्लेटफार्म पर ट्रेन आई हो, इस एफओबी के रैम्प और एस्केलेटर पर 2-2 स्वास्थ्यकर्मी हर यात्री की थर्मल स्कैनिंग कर रहे हैं. यात्री के शरीर का तापमान सामान्य से अधिक जाते ही उसे तुरंत एंटीजेन टेस्ट के लिए पास ही मौजूद स्वास्थ्यकर्मी के पास भेजा जा रहा है. हालांकि अभी तक स्टेशन पर कोई भी पॉजिटिव मरीज नहीं पाया गया है. इसलिए स्वास्थ्यकर्मी और मंडल रेल प्रशासन ने राहत की सांस ली है.

    विदर्भ से जा रहे यात्रियों की मुंबई में जांच

    उधर, मुंबई के स्टेशनों पर विदर्भ से आये रेलयात्रियों की कोरोना जांच को अनिवार्य कर दिया गया है. ज्ञात हो कि नागपुर में बेलगाम हुए कोरोना को देखते हुए मुंबई के स्थानीय प्रशासन ने यह निर्णय लिया है. ऐसे में नागपुर से मुंबई जा रहे यात्रियों को वहां आरटीपीसीआर और एंटीजेन टेस्ट से गुजरना पडेगा. दूसरी तरफ, नागपुर में कोरोना की दूसरी लहर से डरकर अनेक लोगों ने अपनी यात्रा टाल दी है. पिछले 3 दिनों से स्टेशन पर आम दिनों की तुलना में कम भीड दिखाई दे रही है.