जहां स्कूल, वहीं बनाए परीक्षा केंद्र : शिक्षा राज्य मंत्री बच्चू कडू

    नागपुर. कोरोना संकट के बीच इस बार महाराष्ट्र राज्य माध्यमिक व उच्च माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा 10वीं व 12वीं की परीक्षा ली जाएगी. विदर्भ में अप्रैल-मई में भीषण गर्मी होती है. इस हालत में छात्रों को दूर-दराज के केंद्रों पर जाने के लिए परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है. साथ ही कोविड की वजह से संक्रमण का भी खतरा बना रहेगा. अत: जहां स्कूल वहीं परीक्षा केंद्र बनाकर परीक्षा लेने की मांग शिक्षा राज्य मंत्री बच्चू कडू से की गई. गुरुवार को विभागीय परीक्षा मंडल कार्यालय में कडू ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक ली.

    महाराष्ट्र शैक्षणिक संस्था (शुल्क विनियमन) अधिनियम में सुधार के लिए समिति गठित की गई है. समिति ने पालक, शैक्षणिक संगठन सहित सामान्य जनता से सुझाव आमंत्रित किये है. सुझाव ऑनलाइन पद्धति से आमंत्रित किये गये हैं. कडू ने सुझाव आमंत्रित करने के कार्य को गति प्रदान करने के बारे में अधिकारियों को निर्देश दिये. बैठक में शिक्षा उपसंचालक, शिक्षाधिकारी, बोर्ड अध्यक्ष, सचिव सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे.

    बोर्ड छात्रों की उलझन दूर करें

    महाराष्ट्र राज्य राष्ट्रवादी शिक्षक संघ के पदाधिकारियों के साथ चर्चा में अनेक मुद्दों पर चर्चा की गई. पदाधिकारियों ने बताया कि परीक्षा की तिथि तो घोषित हो गई है लेकिन कोरोना की वजह से स्कूल बंद है. पाठ्यक्रम भी पूरा नहीं हो पाया है. इस स्थिति में पालकों-छात्रों के मन में कई सवाल बने हुये है. कितना पाठ्यक्रम परीक्षा में पूछा जाएगा. परीक्षा की पद्धति क्या होगी. इस पर कडू ने बताया कि सरकार सभी मुद्दों पर विचार कर रही हैं. अप्रैल में कोरोना की परिस्थिति को ध्यान में रखकर निर्णय लिया जाएगा. चर्चा में संघ के विभागीय अध्यक्ष खेमराज कोंडे, चंद्रभान सातघरे, प्रा.सतीश अवतारे, निलेश ढोरे आदि उपस्थित थे.