Giving away the lure of marriage, Toli is active in Sihora

शादी के 2 दिन बाद ही दूल्हे को आने लगा बुखार

हाल ही में आयोजित हुआ था विवाह समारोह

एरंडोल. देश सहित जलगांव में कोरोना का प्रकोप दिन ब दिन कहर बरपा रहा है.कोरोना की दवा अभी तक नहीं बन सकी है. दुनिया में कोरोना की दवा खोजने का प्रयास दिन-रात चल रहा है. लेकिन अभी तक सफलता नहीं मिली है. भारत में प्रति दिन सैकड़ों मरीज देसी तकनीक से बनी दवाइयों से कोरोना को मात दे रहे हैं.वहीं सरकार द्वारा निर्देश जारी किए जा रहे हैं कि वर्तमान में इसका एकमात्र इलाज दो लोगों के बीच कम से कम तीन फीट की शारीरिक दूरी है, घर से बाहर जाते समय चेहरे पर मास्क लगाएं. भीड़ भाड़ नहीं करने के निर्देश समय-समय पर  दिए जा रहे हैं.किंतु सरकारी निर्देशों को कोई सुनने तैयार नहीं है. जिसके परिणाम स्वरूप, 16 लोग एरंडोल तालुका के विखरण गांव में पॉजिटिव पाए गए हैं, इनमें दूल्हा दुल्हन और फोटोग्राफर भी शामिल है.

दूल्हा-दुल्हन का चल रहा इलाज

प्रशासन से प्राप्त जानकारी के अनुसार 16 व्यक्ति एक विवाह समारोह में शामिल हुए थे. यहां पर सर्वप्रथम विवाह के 2 दिन बाद दूल्हे राजा को सर्दी बुखार होने पर जलगांव के अस्पताल में भर्ती कराया गया था.कोरोना का परीक्षण कराने पर दूल्हा पॉजिटिव  पाया गया. खबर एरांडोल तहसील में आते ही हड़कंप मचा दी. विखरण ग्राम के युवक का पारोला में कुछ ही लोगों की उपस्थिति में विवाह 14 जून को  हुआ था. विवाह में शामिल 16 व्यक्तियों की जांच की गई तो सभी पॉजिटिव आने से बराती में हड़कंप मच गया है. इनमें दुल्हन फोटोग्राफर और दो अन्य करीबी रिश्तेदार पॉजिटिव पाए गए हैं. दूल्हा और दुल्हन को इलाज हेतु कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

11 व्यक्ति क्वॉरेंटाइन 

तहसील स्वास्थ्य विभाग के कर्मी विवाह में शामिल 11 व्यक्तियों को क्वॉरेंटाइन करने खर्ची ग्राम पंहुचे तो नागरिकों ने उनका विरोध किया.क्वॉरेंटाइन सेंटर जाने से इंकार कर दिया. इस बात को लेकर काफी बवाल मचा मामले की नजाकत को देखते हुए प्रशासन ने अनुविभागीय अधिकारी विनय गोसावी को भेजा उन्होंने ग्रामीणों को समझाया और कोरोना के दुष्परिणामों से अवगत कराया.इसके बाद ग्रामीण क्वॉरेंटाइन होने कर्मियों के साथ जाने तैयार हुए. एसडीएम गोसावी ने नागरिकों से सावधान रहने सार्वजनिक स्थानों पर कम से कम संख्या में भीड़ करने शादी विवाह समारोह और अंतिम संस्कार आदि कार्यक्रमों में कम से कम संख्या में कार्यक्रम निपटाने की अपील की है.