24 episodes of farmer suicides eligible for help

  • सरकारी मदद के लिए 78 प्रस्ताव पात्र तो 98 अपात्र
  • 74 प्रस्तावों की जांच शेष

नाशिक. जनवरी से सितंबर के बीच उत्तर महाराष्ट्र के 5 जिलों में 250 किसानों ने आत्महत्या की. प्रशासन ने सरकारी मदद के लिए 78 किसानों के प्रस्ताव पात्र तो 98 किसानों के प्रस्ताव अपात्र घोषित किए गए. 74 प्रस्तावों की जांच बाकी है. आसमानी और सुलतानी संकटों का सामना करते समय साहुकार, सोसाइटी का कर्ज, पारिवारिक-सामाजिक समस्या, फसल बर्बाद होने से किसानों की आत्महत्या कम नहीं हो पाई हैं.

आत्महत्या किए 250 किसानों में से 98 किसानों के प्रस्ताव अपात्र घोषित किए गए हैं. आत्महत्या पीड़ित किसान परिवार को सरकारी मदद का लाभ जल्द से जल्द देने के लिए कार्रवाई की जा रही है, लेकिन उसकी रफ्तार आज भी धीमी है. नाशिक विभाग में 2015 से आज तक आत्महत्या किए 2 हजार 338 किसानों का सर्वेक्षण किया जा रहा है. नाशिक 9, धुलिया 13, नंदुरबार 3, जलगाव 20, अहमदनगर 53 इस तरह 98 किसानों के प्रस्ताव सरकारी मदद के लिए अपात्र घोषित हुए हैं.