file
file

    नाशिक. शहर के 188 अस्पतालों (Hospitals) में 6,214 बेड कोरोना मरीजों (Corona Patients) के लिए है। इसमें से 5,775 बेड खाली हो गए हैं। आज की स्थिति में 2,439 बेडों पर मरीजों का इलाज किया जा रहा है। ऑक्सीजन (Oxygen) के 2,477 तो वेंटिलेटर के 463 बेड उपलब्ध हैं। नाशिक महानगरपालिका ने किसी भी कोविड अस्पताल को नॉन कोविड अस्पताल के रूप में रूपांतरित करने की अनुमति नहीं दी है। साथ ही कोविड केयर सेंटर भी बंद नहीं किए हैं। 

    शहर के 15 कोविड केयर सेंटरों में धीरे-धीरे मरीजों की संख्या कम हो रही है। मनपा के मेरी कोविड सेंटर में 180 में से 132, समाज कल्याण विभाग में 500 में से 309 और ठक्कर डोम में 325 में से 297 बेड रिक्त हैं। मनपा के बिटको सेंटर के 400 में से 12 जनरल बेड रिक्त हैं। यहां पर अभी भी मरीज दाखिल हो रहे हैं। शहर के कुछ सेवाभावी संस्थाओं के कोविड सेंटरों में भी अधिकतर बेड रिक्त हैं।

     5 कोविड सेंटरों में एक भी मरीज नहीं 

    शहर के 5 कोविड सेंटर में अब मरीजों की संख्या शून्य हो गई है। डॉ। पारनेरकर महाराज अस्पताल में 15 में से 15 बेड रिक्त है। नाशिकरोड स्थित फायर क्वॉर्टर्स में 50 में से 50 बेड रिक्त है। होटल एमराल्ड पार्क के जैन इंटरनेशनल सेंटर में 50 में से 50 बेड रिक्त है। माहेश्वरी स्टूडेंट्स सेंटर में 42 में से 42 बेड रिक्त है। कच्छी लोहाणा मंगल कार्यालय में 20 में से 20 बेड रिक्त है।

    बंद नहीं किए गए सेंटर

    मनपा ने किसी भी कोविड अस्पताल को नॉन कोविड अस्पताल में रूपांतरित करने की अनुमति नहीं दी है। साथ ही कोविड सेंटर भी बंद नहीं किए हैं। डॉ. बापूसाहब नागरगोजे, स्वास्थ्य अधीक्षक, मनपा, नाशिक