बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने मनाया राष्ट्रीय पोषण आहार माह

  • जोनल मैनेजर देशपांडे ने दिखाई रथ को हरी झंडी

नाशिक. बैंक ऑफ महाराष्ट्र की 86वीं वर्षगांठ के निमित्त महाबैंक पुरस्कृत ग्रामीण महिला, बाल विकास मंडल, महाबैंक कृषि संशोधन, ग्रामीण विकास संस्था ने नाशिक जिले के त्र्यंबकेश्वर तहसील के गणेशगांव (वाघेरे) ग्रुप ग्राम पंचायत अंतर्गत गणेशगांव, विनायक नगर, गोरठाणा आदि दुर्गम परिसर में राष्ट्रीय पोषण आहार माह मनाया.

बैंक के नाशिक परिक्षेत्र के महाव्यवस्थापक तथा जोनल मैनेजर एन. एस. देशपांडे ने पोषण आहार रथ को हरी झंडी दिखाकर पोषण आहार माह कार्यक्रम का शुभारंभ किया. कार्यक्रम को संबोधित करते हुए देशपांडे ने कहा कि सामाजिक कार्य के तहत बैंक दुर्गम क्षेत्र में विविध कार्यक्रमों का आयोजन करती है. आज भी कुछ दुर्गम क्षेत्र कुपोषणमुक्त करने के लिए पोषण आहार मार्गदर्शन की जरूरत है.

दुर्गम क्षेत्र को कुपोषणमुक्त के साथ बेरोजगारीमुक्त करने के लिए बैंक के ग्रामीण स्वयंरोजगार प्रशिक्षण संस्था (आरसेटी) द्वारा  नि:शुल्क प्रशिक्षण देकर उन्हें स्वयंरोजगार के लिए बैंक द्वारा कर्ज देती है. आगामी समय में आर्थिक साक्षरता की जनजागृति, महिला बचत गट, किसान उत्पादक गट गठित करने जैसे उपक्रम कार्यान्वित किए जाएंगे. स्मनदा माता, गर्भवती माता, अतिकुपोषित बच्चे, मध्यम कुपोषित बच्चों के आहार में पोषण का संतुलन कैसे रखें, इस बारे में मार्गदर्शन किया जा रहा है. साथ ही लाभार्थियों को पौष्टिक आहारयुक्त फूड पैकेट का वितरण किया गया. -गर्भवती महिलाओं का किया जा रहा मार्गदर्शन

आगामी समय में आंगनवाड़ी परिसर में पौष्टिक आहारयुक्त परीसबाग की निर्मिति की जाएगी. महाबैंक के ग्रामीण स्वयंरोजगार प्रशिक्षण के संचालक स्वप्निल पाटिल ने स्वयंरोजगार और आर्थिक साक्षरता के बारे में जानकारी दी. महिला व बाल कल्याण विभाग, पंचायत समिति, त्र्यंबकेश्वर की रोहिले बीट की पर्यवेक्षक क्षीरसागर ने पोषण आहार के बारे में मार्गदर्शन किया. कार्यक्रम की सफलता के लिए महाबैंक आरसेटी के प्रशिक्षक राजेंद्र पवार, जिला अग्रणी बैंक के प्रतिनिधि सुनंदा सोनवणे, गणेशगांव, विनायक नगर, गोरठाण की आरोग्य सेविका तारा महाले, गंगु महाले, वेणू महाले आदि प्रयासरत थे. कार्यक्रम के लिए महिला व बाल कल्याण विभाग, जि.प. नाशिक, त्र्यंबकेश्वर पंचायत समिति ने हरसंभव मदद की.