सरकारी अनाज की कालाबाजारी, 12 दुकानों का लायसेंस निलंबित

  • 6 लोगों के खिलाफ दर्ज किए गए कानूनी प्रकरण

नाशिक. आर्थिक रूप से कमजोर नागरिकों के अधिकार का सरकारी अनाज खुले बाजार में बिक्री करने के मामले में अनाज आपूर्ति विभाग ने जिले के 35 राशन दुकानदारों पर छापामारी की. इसमें से 12 दुकानों के लायसेन्स निलंबित किए गए जबकी, 23 राशन दुकानदारों के लायसेन्स स्थायी रूप से निष्कासित किए गए. 6 लोगों के खिलाफ कानूनी प्रकरण दर्ज किए गए.

कोरोना संकट में गरीबों के लिए राशन का गेहूं, चावल राहत दे रहा था. सरकारी राशन के कारण लॉक डाउन के दौरान झुग्गी बस्ती में रहने वालों को एक वक्त की रोटी नसीब हुई. दीपावली के दौरान सरकार ने राशन दुकानों के माध्यम से लाभार्थियों के लिए शक्कर, चना दाल उपलब्ध कराई, लेकिन कुछ राशन दुकानदार सरकारी अनाज कि काला बाजारी करने की शिकायतें जिला प्रशासन को प्राप्त हो रही है. आपूर्ति विभाग ने संदिद्ध 35 राशन दुकानों पर छापामारी की. 12 दुकानदारों के लायसेन्स निलंबित किए. 23 दुकानदारों के लायसेन्स निरस्त किए. 

नकद जुर्माने को लेकर संदेह

इस छापामारी के दौरान संदेहास्पद कामकाज करने वाले राशन दुकानदारों के पास से अनाज आपूर्ति विभाग ने 47 हजार 500 रुपए का आर्थिक जुर्माना वसूल किया, लेकिन इस जुर्माने को लेकर नागरिकों ने संदेह व्यक्त किया. कार्रवाई और जुर्माना दोनों में सरकारी राशन दुकान के साथ अनाज आपूर्ति विभाग के अधिकारियों से मिलीभगत होने की चर्चा सुनने को मिल रही है.