File Photo
File Photo

  • कोर्ट के आदेश का खुला उल्लंघन
  • मुस्लिम यूथ सेवा फाउंडेशन ने बंद करने की मांग

अमलनेर. मुंबई हाईकोर्ट की खंडपीठ औरंगाबाद के आदेश का उल्लंघन करते हुए अमलनेर शहर में इन दिनों धड़ल्ले से चल रहे जिस्मफरोशी कारोबार को बंद करने की मांग की गई है. इसको लेकर मंगलवार को मुस्लिम यूथ सेवा फाउंडेशन ने संवाददाता सम्मेलन आयोजित किया है. गौरतलब है कि अमलनेर शहर के गांधली पूरा में कई वर्ष से जिस्म फरोशी का कारोबार ज़ोर-शोर से चल रहा है. जिसे देखते हुए 1 जून  2019 को मुंबई हाईकोर्ट की खंडपीठ औरंगाबाद ने रेड लाइट परिसर को प्रतिबंध लगाने का आदेश जारी किया था. इस परिसर में सी सी टीवी कैमरे भी लगाए गए थे और हमेशा के लिए कारोबार बंद करने का आदेश दिया गया था, इतना सब कुछ होने के बावजूद इस पर अमल नहीं हो रहा है.

थाने की नाक के नीचे चल रहा कारोबार

यहां पर धड़ल्ले से व्यवसाय जारी है, इसके करीब ही कुछ मीटर दूरी पर पुलिस थाना है, लेकिन इसका असर कुछ नहीं हो रहा है, यहां पर कुछ महिलाओं पर पीटा एक्ट के अनुसार कार्रवाई भी हुई, और जेल की हवा भी खानी पड़ी थी, लेकिन कुछ ही दिनों में यह व्यवसाय जैसे थे वैसा ही चल रहा है, कोरोना का कहर पूरे देश में जारी है लेकिन यहां आने वाले ग्राहकों में भय का माहौल नहीं है, बार बार  तहसील कार्यलय में पुलिस थाने में इस व्यवसाय के बारे में अवगत कराने के बाद भी प्रशासन आंखें मूंद कर बैठी है. मुंबई हाईकोर्ट के औरंगाबाद के आदेशों को ताक पर रखते हुए धड़ल्ले से जिस्म फरोशी का कारोबार जारी है,

परिसर हुआ है बदनाम

इस परिसर में रहने वालों को बुरी नजर से देखा जा रहा है. यहां की लड़कियों की शादियां नहीं हो रही है, परिसर की बदनामी के चलते यहां पर कई लोगों ने गांव बदल दिया है, इस परिसर में कई मंदिर मस्जिद स्कूलें भी हैं, जिस्म फरोशी के कारोबार के चलते माहौल खराब हो चुका है,यह कारोबार जल्द बंद  न हुआ तो मुस्लिम यूथ फाउंडेशन आंदोलन करने की चेतावनी भी संवाददाता संमेलन दी है. इस मौके पर रियाज मौलाना,  एड रज्जाक शेख, प्रा, अशोक पवार, हमीद खटीक, कुदरत अली आदि उपस्थित थे.