coronavirus

    मनमाड. मनमाड (Manmad) समेत समूचे नांदगांव तहसील (Nandgaon Tehsil) में कोरोना का संक्रमण (Corona Infection) थमता नजर नहीं आ रहा है। विभिन्न सरकारी कार्यालयों के बाद अब कोरोना रेलवे के कारखाने में भी पहुंच गया है। बताया जा रहा है कि कारखाने के करीब 10 से 12 कर्मियों के कोरोना की चपेट में आ जाने से मंगलवार को कारखाने में कामकाज बंद रखा गया। यह कारखाना अंग्रेजों के जमाने का है। यहां रेलवे के ब्रिजों का निर्माण करने के लिए लगने वाली सामग्री बनायी जाती है। 

    उधर, कोरोना की चपेट में आम लोगों के साथ-साथ विभिन्न राजनीतिक दलों के पदाधिकारी, कार्यकर्ता, कुछ नगरसेवक भी आने लगे हैं। इसके कारण नागरिकों में डर का माहौल हो गया है।

    लोगों ने नहीं किया नियमों का पालन

    मनमाड शहर में पिछले साल 2 मई को कोरोना का पहला मरीज पाया गया था। उसके बाद समय-समय पर मरीजों की संख्या बढ़ती चली गयी थी। उस समय नगरपालिका प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग समेत जनप्रतिनिधियों द्वारा कोरोना की रोकथाम के लिए कई कदम उठाए गए थे, जिसके कारण कोरोना पर काबू पाया जा सका था। सभी को लग रहा था कि अब कोरोना की वापसी नहीं होगी, इसलिए बाजारों में भीड़ बढ़ गयी थी। वहीं लोगों ने मास्क लगाना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना लगभग छोड़ दिया था। शायद इसी लापरवाही के कारण शहर एवं तहसील में कोरोना का दुबारा आगमन हो गया। इस समय मनमाड शहर में एक्टिव मरीजों की संख्या 86 है। वहीं नांदगांव तहसील में 230 हो गयी है। मरीजों की बढ़ती संख्या के कारण लोगो में डर का माहौल बन गया है।