Covid Center to be built in RL Mall, 300 beds will be arranged

    नाशिक. शहर में एक ओर कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ रही है और दूसरी ओर मेरी और ठक्कर डोम में कोविड केंद्र शुरु करने में देरी होने से मनपा ने मुंबई नाका (Mumbai Naka) के आरएल मॉल (RL Mall) की इमारत में इमरजेंसी (Emergency) में 300 बेड का कोविड सेंटर (Covid Center) तैयार करने का निर्णय लिया गया है। साथ ही पंचवटी की रसिकलाल माणिकचंद धारिवाल चॅरिटेबल ट्रस्ट के अस्पताल में 100 बेड का अस्पताल शुरु किया जा रहा है। यहां पर 50 बेड ऑक्सीजन के और 50 बेड साधारण रहेंगे। दूसरी ओर बिटको अस्पताल में भी 250 ऑक्सीजन बेड बढ़ाने का निर्णय लिए जाने की जानकारी आयुक्त कैलाश जाधव ने दी है। 

    शहर में कोरोना के मरीजों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। शहर में सक्रिय रोगियों की संख्या 12,000 से अधिक हो गई है। जैसे-जैसे मरीजों की संख्या बढ़ रही है नागरिक अब इलाज के लिए सरकारी के साथ निजी अस्पतालों में जा रहे हैं। वर्तमान में डॉ. ज़ाकिर हुसैन अस्पताल में 150 बिस्तर और बिटको में 500 बिस्तर हैं। वहीं समाज कल्याण भवन के 3 भवनों में कोविड केंद्र शुरू करने की तैयारी चल रही है। जैसे-जैसे मरीजों की संख्या बढ़ रही है, डॉ. ज़ाकिर हुसैन अस्पताल और बिटको के बिस्तर लगभग भरे हुए हैं। 

    मेरी और ठक्कर डोमेस में भी जल्द चालू होगा कोविड केंद्र

    दूसरी ओर, मनपा ठक्कर डोम और मेरी के कोविड केंद्र को फिर से खोलने की तैयारी कर रहा है। वर्तमान में ऑक्सीजन बेड की मांग कोविड केंद्रों की तुलना में अधिक है। इसलिए मनपा की तात्कालिकता को देखते हुए जैन संगठन ने सांकल मॉल में एक कोविड केंद्र शुरू करने के लिए कमिश्नर को एक पत्र दिया है। इस स्थान पर भवन तैयार है, केवल बिस्तरों की उपलब्धता की आवश्यकता है। इस जगह पर ऑक्सीजन बेड भी उपलब्ध कराए जाएंगे। रसिकलाल माणिकचंद धारीवाल चैरिटेबल ट्रस्ट ने मनपा को पंचवटी में 100 बिस्तर का अस्पताल भी उपलब्ध कराया है। चूंकि इस जगह में सभी सुविधाएं हैं, इसलिए इस अस्पताल को मनपा द्वारा तुरंत ले लिया जाएगा। इसमें 50 ऑक्सीजन बेड और 50 सामान्य बेड होंगे। जाधव ने कहा कि कोविड केंद्र जल्द ही मेरी और ठक्कर डोमेस में भी चालू होगा।

    बिटको में 250 ऑक्सीजन बेड

    वर्तमान में बिटको अस्पताल में 500 बेड उपलब्ध हैं। इसमें 236 ऑक्सीजन बेड शामिल हैं। वर्तमान में कोविड केंद्रों की तुलना में ऑक्सीजन बेड की अधिक मांग है। बिटको में 23 केएल क्षमता का ऑक्सीजन प्लांट लगाया गया है। इसलिए और 250 ऑक्सीजन बेड बिटको में जोड़े जाएंगे। बिटको में 250, पंचवटी में 50 और सखला मॉल में 100 के आसपास ऑक्सीजन बेड होंगे। परिणामस्वरूप रोगियों के लिए 400 नए ऑक्सीजन बेड उपलब्ध होंगे।

    सिविल अस्पताल का ऑक्सीजन प्लांट शुरु

    गंभीर रूप से बीमार लोगों को ऑक्सीजन प्रदान करने के लिए सिविल अस्पताल में एक तरल ऑक्सीजन तैयारी संयंत्र स्थापित किया गया है। 69 लाख रुपये की लागत से स्थापित किया गया यह संयंत्र 310 बिस्तरों पर उपचार कर रहे रोगियों को ऑक्सीजन की आपूर्ति करने में सक्षम होगा। कोरोना संकट ने स्वास्थ्य प्रणाली की कमियों को ठीक करने का अवसर प्रदान किया। अगस्त-सितंबर 2020 की अवधि के दौरान, जब गंभीर रूप से बीमार रोगियों की संख्या बढ़ रही थी, तो यह देखा गया कि ऑक्सीजन की कमी थी। समय पर प्रशासन को तरल ऑक्सीजन उपलब्ध कराने के लिए भागना पड़ा। औद्योगिक कंपनियों के तरल ऑक्सीजन भी आरक्षित होने लगे। सिविल अस्पताल में एक स्थायी ऑक्सीजन संयंत्र शुरू करने का निर्णय लिया गया क्योंकि किसी भी रोगी को किसी भी समय ऑक्सीजन की आवश्यकता हो सकती है। पिछले 2 महीने से प्लांट पर काम चल रहा है। अस्पताल के सूत्रों ने कहा कि यह पूरा हो गया है और 20 किलोलीटर की क्षमता वाला संयंत्र मंगलवार से चालू है। सिविल अस्पताल, एसएनसीयू, लेबर वार्ड और कैजुअल्टी के मुख्य भवन में आईसीयू उन सभी स्थानों पर ऑक्सीजन की आपूर्ति करने में सक्षम होगी जहां केंद्रीय ऑक्सीजन प्रणाली स्थापित है। मरीजों को 300 से अधिक बेड में ऑक्सीजन प्राप्त करने में मदद मिलेगी, यहां 200 बेड और कोविड भवन में 110 बेड शामिल हैं।

    लिक्विड ऑक्सीजन टैंक की तैयारी जो दो महीने से चल रही थी, आज से चालू हो गया। दोनों भवनों में पाइपलाइनों की स्थापना भविष्य में भी रोगियों के लिए एक बड़ी मदद रही है।

    - डॉ. रत्ना रावखंडे, जिला सर्जन