फसल नुकसान के पंचनामे की मांग, तहसीलदार को सौंपा ज्ञापन

शिंदखेडा. तहसील के वर्षी गुट में हुई तूफानी बारिश से सौ फीसदी फ़सल का नुकसान हुआ है. इसके साथ ही गांव के कई मकान ढह गये हैं. इस नुकसान की भरपाई के लिए जि.प. सदस्या ज्योति देविदास बोरसे,वर्षी के नेतृत्व में तहसीलदार साहेबराव सोनवणे व कृषि अधिकारी को ज्ञापन दिया. ज्ञापन में तत्काल पंचनामे करने की मांग की गयी.

शिंदखेडा तहसील के वर्षी गुट के 15 गांवों में रविवार को हुई जोरदार बारिश के साथ बिजली भी कड़की. इससे फसलों का बड़े पैमाने पर नुकसान हुआ है. कपास,बाजरा,ज्वार,पपई,गन्ना,मक्का,आदि फासलें जमींदोस्त हो गयीं. सौ फीसदी फसलों का नुकसान हुआ है. किसानों का जैसे मुंह में आया निवाला छीन लिया हो.इससे किसानों में आक्रोश है.

कुछ किसान अपनी आयी हुयी फ़सल नहीं के बराबर देख, खेत में जगह पर ही रोने लगे.जि.प.सदस्या  ज्योति देविदास बोरसे, वर्षी के नेतृत्व में तहसीलदार साहेबराव सोनवणे व कृषि अधिकारी विनय बोरसे,  मंडल अधिकारी बी.डी.देसले, लांचद राजपूत ने ज्ञापन स्वीकारा. मंडल अधिकारी व पटवारी को प्रत्यक्ष घटना स्थल पर पंचनामे कर, किसानों के नुकसान हुई फसल का मुआवजा देने प्रयास करने की मांग की गयी.

कई गांवों में बड़े पैमाने पर मकानों ढह गये हैं. उनके पंचनामे कर, खुले में आये परिवार को  दिलासा देने की मांग की गयी. देविदास रामभाऊ बोरसे,खडकसिंह हंबरसिंह गिरासे, गणेश पाटिल (निरगुडी), नंदकिशोर मच्छिंद्र बडगुजर (वर्षी), मन्साराम मालचे (टेंबलाय), भरत मधुकर पवार पंचायत समिति कमखेडा, राहुल बोरसे (दत्ताणे सरपंच) चेतन बोरसे, प्रदीप रोकडे, भिकन पिंजारी, भटु गिरासे, चतुर पाटिल, दिलीप गिरासे आदि सह वर्षी गुट के किसान बड़ी संख्या में लोग ज्ञापन देने मौजूद थे.