व्यापारियों ने किया प्याज खरीदी का बहिष्कार

  • प्याज भंडारण पर प्रतिबंध लगाने से आक्रोश

नाशिक. केंद्र सरकार ने प्याज भंडारण पर प्रतिबंध लगाने के निषेध में नाशिक जिले के लासलगाव, चांदवड़, पिंपलगाव बसवंत, देवला, उमराणे, नामपुर आदि बाजार समिति के व्यापारियों ने अनिश्चित समय के लिए हड़ताल की घोषण कर प्याज  खरिदी करने से मना कर दिया. इसके चलते प्याज की नीलामी बंद हुई.

प्याज के दाम दिन ब दिन बढ़ने से केंद्र सरकार ने व्यापारियों पर प्याज भंडारण करने के लिए प्रतिबंध लगाए हैं. इससे संतप्त हुए व्यापारियों ने एकाएक प्याज की नीलामी शुरू न करने की भूमिका अपनाई. कुछ जगह पर मंडी समिति प्रशासन और व्यापारियों के बीच बैठक हुई. परंतु व्यापारी अपनी भूमिका पर अड़े रहने से नीलामी बंद रही. व्यापारियों ने कहा कि पहले से ही हमारे पास प्याज शेष है. अब प्याज की खरीदी की तो केंद्र सरकार के नियमों का उल्लंघन होगा. इसलिए हमने प्याज नीलामी शुरू नहीं की.

व्यापारियों को मिला किसानों का समर्थन

व्यापारियों ने प्याज नीलामी बंद करने की भूमिका का किसानों ने भी समर्थन किया. किसानों का आर्थिक लाभ होते ही केंद्र सरकार की समस्या बढ़ जाती है. अन्य वस्तुओं की कीमतें बढ़ने पर कोई भी कार्रवाई नहीं होती है. इसलिए केंद्र सरकार किसान हित के खिलाफ है? ऐसा सवाल भी किसानों ने खड़ा किया.

चुनाव जीतने के लिए हो रही है कार्रवाई

किसानों की समस्याओं से केंद्र सरकार को कोई लेना-देना नहीं है. सरकार केवल बिहार चुनाव में अपनी जीत हो, इसलिए प्याज के दाम नियंत्रित कर रही है. ऐसा आरोप किसानों ने किया.