Doubts on the number of deaths from Corona, the department is accused of hiding the figures
File Photo

    नाशिक. चिकित्सा विभाग वास्तविक आंकड़े छिपा रहा है क्योंकि कोरोना (Corona) की दूसरी लहर (Second Wave) में मरने वालों की संख्या जो दिखाई जा रही है उस पर संदेह किया जा रहा है। प्रशासन ने इसके बारे में जानकारी एकत्र करना शुरू कर दिया है। इस रिपोर्ट (Report) की तैयारी के आंकड़ों को छिपाने के आरोप से छुटकारा पाने का प्रयास माना जा रहा है। 

    कोरोना नरसंहार से मरने वालों की संख्या में तेजी से वृद्धि हुई है। उस संदर्भ में प्रशासन को निर्देश दिया गया है कि वह रिपोर्ट दर्ज करे कि कितनी मौतें हुई हैं, क्या मृतक गंभीर बीमारी का मरीज था, क्या मृतक की सूचना प्रशासन को दी गई है? हालांकि, एक सवाल यह भी है कि जन्म (Birth)  और मृत्यु (Death) के पंजीकरण की एक अलग व्यवस्था होने पर प्रशासन मौत के आंकड़ों को इकट्ठा करने की जहमत क्यों उठा रहा है?

    सरकारी निर्देशानुसार कराया जाए ऑडिट

    फरवरी के अंत से शहर में कोरोना की एक और लहर का जन्म हुआ। यह अब तक 2 लाख से अधिक रोगियों तक पहुंच चुका है। मरने वालों की संख्या में भी तेजी से वृद्धि हुई है। हालांकि मरने वालों की संख्या अधिक होने की उम्मीद है क्योंकि प्रशासन द्वारा मौत के सही आंकडे जारी नहीं किए जा रहे हैं। आरोप है कि प्रशासन ने बड़े पैमाने पर आलोचना की संभावना के कारण आंकड़े जारी नहीं किए। प्रशासन ने चिकित्सा विभाग को निर्देश दिया है कि वह मौत के आंकड़ों की रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुसार मौतों का ऑडिट कराए।

    कई बिंदुओं पर करना होगा काम

    मृत व्यक्तियों के बीच एक रिपोर्ट प्रस्तुत करने का निर्देश दिया गया था कि क्या मृतक गंभीर बीमारी का मरीज था, क्या वह ‘मेरा परिवार, मेरी जिम्मेदारी’ सर्वेक्षण के तहत दर्ज किया गया था, या क्या कॉन्टॅक्ट ट्रेसिंग हुई थी आदि बिंदुओं पर जांच करनी है। प्रशासन ने दावा किया है कि कार्य को बाधित किया जा रहा है क्योंकि कोरोना कार्य के लिए नियुक्त कर्मचारियों को कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। मृतकों की आकड़ेवारी पर टिप्पणी होने की संभावना है।

    16 दिनों में 2,390 अंतिम संस्कार!

    1 से 16 अप्रैल के बीच कुल 2,390 शवों का अंतिम संस्कार किया गया। इस तरह की चौंकाने वाली मौत के आंकड़े सामने आने के बाद प्रशासन की नींव के नीचे की रेत खिसक गई। इसमें ईसाई, मुस्लिम, गोसावी, लिंगायत सभी लोग शामिल हैं। बिजली और गैस शवदाहिनी में हुए अंतिम संस्कारों को आंकड़ों में शामिल नहीं किया गया है।