बारिश

60 प्रतिशत पूरी हुई खेतों में बुआई  

निजी कंपनियों के बीज को प्राथमिकता

नाशिक. निसर्ग चक्रवाद के प्रभाव से नाशिक जिले में मानसून पूर्व हुई बारिश और इसके बाद जून माह के पहले 15 दिनों में हुई जोरदार बारिश से कृषि संबंधित काम की रफ्तार बढ़ी है. परिणामस्वरूप जिले के अधिकांश किसानों ने विविध फसलों की बुआई का कार्य पूरा किया है. जिले में पिछले साल की तुलना में इस साल जून माह में खरीफ फसल की बुआई बढ़ गई है. 60 प्रतिशत से अधिक खेतों में बुआई पूर्ण हुई है. पिछले साल जून माह में बारिश न होने से बुआई का कामकाज ठप हो गया था. परंतु इस साल जून माह की शुरुआत में ही पर्याप्त बारिश होने से किसान खेती कार्य में जुट गए हैं. 

सार्वजनिक कंपनियां करें मंथन

इस साल किसानों ने बीज का चयन करते सूय महाबीज और एनएससी के बीज की बजाए निजी कंपनियों के बीज को प्राथमिकता दे रहे हैं, जिसमें सोयाबीन, ज्वारी, मक्का आदि शामिल हैं. दिन ब दिन किसान निजी कंपनियों के बीज की ओर आकर्षित हो रहे हैं. इसलिए सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों पर आत्मपरीक्षण करने की नौबत आई है.

ज्वारी की अधिक बुआई

आज के स्पर्धात्मक युग में खेती क्षेत्र में विविध कंपनियों ने बड़े तौर पर निवेश करते हुए गुणात्मक बीज बाजार में लाया है, जिसे किसान पसंद कर रहे हैं. खरीफ सत्र में किसानों ने ज्वारी, मक्का, सोयाबीन आदि फसलों को महत्व दिया है. ज्वारी की सबसे अधिक क्षेत्र में बुआई हुई है.