Farmer crowd in registration of vehicles, registration is also done through mobile number

    लासलगांव. कोरोना (Corona) का कहर कम हो जाने से नाशिक जिले (Nashik District) में कुछ हद तक लॉकडाउन (Lockdown) में ढील दी गई है जिसमें बंद किए गए लासलगांव (Lasalgaon) के साथ जिले की प्याज की मंडियां खोल दी गई हैं, लेकिन पंजीकृत 500 वाहनों की प्याज़ का ही रोज नीलाम होगा। इसके लिए अपने वाहनों का पंजीकरण करने के लिए किसानों ने बाजार समिति के प्रांगण में प्रवेशद्वार पर भारी भीड़ की दी थी।

    सुविधा होने के बाद भी लग गयी किसानों की भीड़

    मंडी समिति ने पंजीकरण के लिए मोबाइल फोन नंबर दे रखा था उसके बाद भी किसानों ने मंडी के द्वार पर भीड़ लगा दी थी जिससे सोशल डिस्टेंसिंग के कानून की धज्जियां उड़ती हुई देखी गईं। समिति के सचिव नरेंद्र वाढवणे और पुलिस किसानों से पूछते रहे कि उसे कोरोना का संसर्ग हुआ था या नहीं। लासलगांव बाजार समिति में 620 वाहनों से 12,847 क्विंटल प्याज अधिकतम 1,753 रुपये, न्यूनतम 700 रुपये और सामान्य 1,420 रुपये में बिका। चांदवड तहसील के वाकी खुर्द के प्याज उत्पादक समीर देवड़े ने मांग की कि कोरोना के बढ़ते प्रादुर्भाव को रोकने के लिए नियम के तहत 500 वाहनों का पंजीकरण करते हुए बारिश के मौसम के शुरु होने के पहले पड़े हुए प्याज़ की बिक्री ना होने से भारी नुकसान होगा इसलिए वाहनों की मर्यादा 1000 की जाए।