कृषि विधेयक से बदलेगी किसानों की दशा

  • सांसद डॉ. भामरे ने किसानों से किया दावा

धुलिया. पूर्व केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री एवं सांसद डॉ. सुभाष भामरे ने कहा है कि केंद्र सरकार द्वारा लागू किए गए तीनों कृषि विधेयक किसानों के हित में हैं और किसानों की आय को दोगुना करने में ये मील का पत्थर साबित होंगे. इन कानूनों का कोई भी किसान विरोध नहीं कर रहा, बल्कि जो भी विरोध हो रहा है वह विपक्षी पार्टियों द्वारा प्रायोजित है. कृषि मंडियों में किसानों का शोषण रुकेगा और 8% बिक्री फीस से भी किसानों को छुटकारा मिलेगा. किसान नेता शरद जोशी का सपना एक प्रकार से मोदी सरकार ने पूरा किया है.

किसान बनेगा आत्मनिर्भर

वे सोमवार को उनके भाजपा कार्यालय में प्रेस वार्ता को संबोधित कर रहे थे. सांसद भामरे ने कहा कि इन कृषि कानूनों से किसान आत्मनिर्भर, सशक्त और मजबूत होंगे और इन कानूनों के लागू होने से आने वाले तीन वर्षों में किसानों की आय भी दोगुनी होगी. उन्होंने कहा कि पिछले छह वर्षों में किसानों के लिए कई ऐतिहासिक निर्णय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्रीय सरकार और कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के नेतृत्व में सरकार ने लिए हैं. इनमें  फसल बीमा योजना, किसानों के खाते में किसान सम्मान राशि हर वर्ष देने सहित कई योजनाओं के माध्यम से सरकार ने किसानों को लाभ  पहुंचाया है.

केंद्र सरकार का विपक्ष हताश और निराश

सांसद भामरे ने कांग्रेसी तथा उसके मित्र परिवारों पर प्रहार करते हुए कहा कि आज विपक्ष हताश व निराश है और वह किसानों को भडक़ाकर अपना वोट बैंक बढ़ाना चाहते हैं. किसान अपने दोस्त व दुश्मन को पहचानते हैं और वह कभी भी विपक्ष के बहकावे में नहीं आएंगे. कांग्रेस ने 2019 के चंदा मामा मुक्त बाजार की अवधारणा पेश की थी. आज यही कांग्रेस मुक्त बाजार की अवधारणा का विरोध कर रही है.

पूर्ववत रहेगी मंडियों की व्यवस्था

एमएसपी पर बोलते हुए भामरे ने कहा कि एमएसपी खत्म नहीं होगा और मंडियों की व्यवस्था भी पहले की तरह ही बनी रहेगी. खुले बाजार का विकल्प किसानों को दिया है और इससे जहां उनकी फसल के महंगे दाम मिलेंगे वहीं बेच सकते हैं. उन्होंने कहा कि आजादी के बाद किसानों की किसी ने भी चिंता नहीं की और अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों के हित के लिए यह कदम उठाए हैं. इससे अंतरराज्जीय बाजार को बढ़ावा मिलेगा. किसानों के जीवन की दशा और दिशा बदलेगी. इस तरह की आशा डॉक्टर भामरे ने व्यक्त की है.