भारत बंद से पहले रास्ते पर उतरे किसान

  • किसानों के लिए जिंदगीभर संघर्ष करने तैयार रहें : कोकाटे

सिन्नर. सिन्नर के विधायक माणिक कोकाटे (MLA Manik Kokate) ने कहा कि 80 वर्ष का आदमी किसानों के लिए रास्ते पर उतर रहा है तो आम युवा किसानों के घर में बैठने का क्या मतलब है? अब लोकतंत्र को बचाने के लिए शांत न रहें। वे किसानों द्वारा सिन्नर तहसील कार्यालय पर निकाले गए मोर्चा को संबोधित कर रहे थे।

मोर्चा की शुरुआत आडवा फाटा से हुई। विधायक कोकाटे बैलगाड़ी से तहसील कार्यालय पहुंचे। इस दरमियान तहसीलदार राहुल पोकले को किसानों की मांगों का ज्ञापन सौंपा गया। इस समय राष्ट्रवादी कांग्रेस के तहसील अध्यक्ष बालासाहब वाघ, कांग्रेस के अध्यक्ष विनायक सांगले, जि. प. सदस्या एस. कोकाटे, सोमनाथ भिसे, आशा गोसावी, गीता वरंदल, अनिल वराडे, संतोष शिंदे, राजेंद्र चव्हाणके, रामा लोणारे, संदीप शेलेके, राजाराम मुंगसे सहित बड़ी संख्या में किसान उपस्थित थे।

केंद्र की नीति उद्यमियों के हित में

विधायक कोकाटे ने कहा कि सरकार का आदेश आएगा, तब तक हम शांत नहीं बैठ सकते। मंगलवार को होने वाले आंदोलन में हम सब शामिल होने वाले हैं। केंद्र सरकार द्वारा अपनाई नीति उद्यमियों के लिए अनुकूल है। आज निकाला गया मोर्चा प्रथम चरण है। आगामी दिनों में दिल्ली में मोर्चा निकाला जाएगा। किसानों को आज बिजली नहीं मिली है, परंतु इंडिया बुल का प्रकल्प शुरू होते ही 20 किलो मीटर अंतर में होने वाले किसानों को 24 घंटे बिजली मिलेगी।