Fear of heavy loss of crops, troubles of onion farmers increased

    लासलगांव. प्याज़ उत्पादक किसानों (Farmers) की कठिनाइयां फिर से बढ़ गई हैं। कोरोना (Corona) के कारण लासलगांव (Lasalgaon) के साथ नाशिक जिला मंडी समितियां (Nashik District Mandi Committees) बंद हैं। ऐसे में बिजली की कड़कड़ाहट के साथ बेमौसम बारिश (Rain) ने शुक्रवार की शाम से जोरदार दस्तक दी है और रोज दोपहर में बारिश हो रही है जिससे किसानों द्वारा खेतों में लगाई गयीं फसलों को भारी नुकसान होने की संभावना है। 

    पिछले एक सप्ताह से मौसम साफ और बेहद गर्म था और बारिश नहीं हो रही थी, लेकिन शुक्रवार शाम को मौसम में अचानक बदलाव आया और गरज के साथ बेमौसम बारिश हुई। बारिश की अचानक शुरुआत के कारण किसानों की फसल को बचाने के लिए किसानों ने बहुत प्रयत्न किए। खेत में खड़ी फसल और कुछ स्थानों पर प्याज की फसल काटी जा रही है। 

    कोरोना से प्याज की मांग घटी

    कोरोना महामारी की शुरुआत के कारण प्याज की मांग में कमी आई है, बाजार की कीमतें और प्याज की आवक तेजी से घट रही है। अब प्याज की फसल से कमाई कम हो रही है और उत्पादन लागत भी निकलना मुश्किल है। कोरोना महामारी की शुरुआत के साथ, प्याज की मांग में गिरावट आई है और प्याज की बाजार कीमतें दैनिक आधार पर तेजी से गिर रही हैं। प्याज उत्पादक मंगेश गवली ने मांग की है कि केंद्र और राज्य सरकारों को प्याज उत्पादकों पर ध्यान देना चाहिए।