गोदावरी किनारे विदेशी पक्षियों का बसेरा

  • हर साल मौसम बदलते ही नाशिक पहुंचते हैं विदेशी परिंदे

नाशिक. अपने आकर्षक रंगों से सृष्टि को सुंदर बनाने वाले जिन्हें निहारने की लालसा हर किसी के मन में होती है, ऐसे दुर्लभ परिंदों ने नाशिक में अपना ठिकाना बना लिया है. नाशिक में पहली बार मनाए जाने वाले पक्षी सप्ताह में 105 प्रजातियों को रिकॉर्ड किया गया है. इनमें 71 स्थानीय और 34 स्थलांतरिक पक्षी हैं. जंगलों में रहने वाले पक्षियों के साथ साथ झीलों और बांधों के आस पास रहने वाले परिंदे भी यहां जमा हैं. 

नाशिक संरक्षण सोसायटी ऑफ नाशिक (NCSN) ने जिले में 8 अलग-अलग स्थानों पर पक्षी गणना की. उस समय, 8 दिनों में 105 प्रजातियां देखी गईं. ये पक्षी मुख्य रूप से घास के मैदानों, जंगलों और जिले के गीले इलाकों में पाए जाते हैं. विशेष रूप से स्थानीय और विदेशी पक्षियों के साथ दुर्लभ पक्षियों की शुरुआत ने संरक्षण को गति दी है. इनमें फेरुसीनस डक, भारतीय चित्तीदार चील, भारतीय गिद्ध, सफेद मुनिया जैसे दुर्लभ पक्षी शामिल हैं.

 वन विभाग कर रहा है संरक्षण के लिए काम 

 वन विभाग उनके संरक्षण के लिए काम कर रहा है और चूंकि उनकी संख्या और आवास नाशिक में स्थिर है, इसलिए इस पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है. यह फिर से स्पष्ट हो गया है कि नाशिक का वातावरण जंगली पक्षियों के लिए पोषक हो रहा है. अवलोकन में आशीष कटारिया, आदित देवरे, अनिरुद्ध जाधव, अनुज देवरे, पूजा कोठुले, नितिन वाघ, संजना कजवे, चंद्रिका खिरनी, नूरी मर्चेंट, राहुल मनशानी, अरुण अय्यर और समाज के अन्य सदस्यों ने भाग लिया.

किस इलाके में कितनी प्रजाती हैं

  •  वाघाड़ बांध – 48
  • त्र्यंबकेश्वर वन क्षेत्र – 30
  • चांदसी – 28
  • गंगापुर बांध क्षेत्र – 28
  • गंगापुर नर्सरी – 24
  • बोरगढ़ संरक्षण क्षेत्र – 21
  • महिरावनी – 14
  • चमरल्लेनी – 10

कई दुर्लभ पक्षी नाशिक में रहने लगे हैं. वाघाड़ी बांध क्षेत्र में अधिकांश पक्षी प्रजातियां देखी गईं हैं. अभयारण्यों और वन क्षेत्रों के साथ-साथ मलेरन और बांध क्षेत्रों में संरक्षण की आवश्यकता है, ताकि नाशिक में दुर्लभ पक्षियों के रहने में मदद मिलेगी. 

-प्रतीक अग्रवाल, एनसीएसएन