नदी जोड़ सिंचाई परियोजनाओं के लिए दें धन

  • जनप्रतिनिधियों ने जल संसाधन मंत्री से लगाई गुहार
  • अतिवृष्टि से हुए नुकसान का दिया जाए हर्जाना

अमलनेर. जिले में विभिन्न सिंचाई परियोजनाओं और निम तापी परियोजना पाडलसे बांध के संबंध में जल संसाधन मंत्री जयंत पाटिल की अध्यक्षता में जल संसाधन मंत्रालय में  समीक्षा बैठक आयोजित की गई. इस समय विधायक अनिल पाटिल ने पांझरा मालन नदी जोड़ परियोजना का मुद्दा उठाया और प्रस्ताव को मंजूरी देने की मांग पर जोर दिया. मंत्री जयंत पाटिल ने संबंधित सचिव के साथ तापी घाटी निगम के मुख्य कार्यकारी अभियंता प्रशांत मोर को इस संबंध में उचित कार्रवाई करने के निर्देश दिए.

योजनाओं के लिए धन मुहैया कराने पर जोर

विधायक अनिल पाटिल के साथ अन्य जनप्रतिनिधियों ने जल संसाधन मंत्री जयंत पाटिल को जिले की विभिन्न लंबित परियोजनाओं को धन मुहैया कराने की मांग की जिसमें प्रमुख रूप से गिरणा परियोजना के तहत जामदा बाईं नहर का जीर्णोद्धार कर म्हसवे झील व भोकरबारी बांध परियोजना को भरने के लिए नहर निधि प्रदान करने पर जोर दिया. और पडलसारे बांध के लिए धन उपलब्ध कराने की मांग जल संसाधन मंत्री जयंत पाटिल से की.

पवार ने भुसे को पंचनामा कराने का दिया निर्देश

इसी तरह से अतिवृष्टि के कारण तहसील सहित जिले में बड़े पैमाने पर किसानों की खड़ी फसलें एवं उनके मकान क्षतिग्रस्त हो गए हैं. तत्काल सरकारी स्तर पर किसानों और संबंधित नुकसान ग्रस्त नागरिकों को आर्थिक राहत देने की उपस्थित जनप्रतिनिधियों ने उपमुख्यमंत्री अजित पवार से मांग की. इस पर पवार ने कृषि मंत्री दादा भुसे को निर्देश दिया कि कपास की फसलों का पंचनामा किया जाए, किसानों को राहत देने के मुद्दे पर चर्चा की.

इस दौरान उप मुख्यमंत्री अजीत पवार के जल संसाधन मंत्री जयंत पाटिल से चर्चा करते समय अमलनेर विधानसभा क्षेत्र के विधायक अनिल भाईदास पाटिल, पूर्व विधानसभा अध्यक्ष अरुणभाई गुजराती, पूर्व मंत्री सतीश पाटिल, पूर्व मंत्री गुलाबराव देवकर, विधायक लताताई सोनवणे, राकां जिला अध्यक्ष रवींद्र पाटिल, पूर्व विधायक दिलीप वाघ के साथ जनप्रतिनिधि, पदाधिकारी, विभाग के प्रमुख सचिव लोकेश चंद्र, परियोजना प्रमुख समन्वय सचिव एन.वी.  शिंदे, लाक्षेवि सचिव घनेकर, संयुक्त सचिव कपोले तापी घाटी के निदेशक कांबले मुख्य कार्यकारी अभियंता प्रशांत मोरे उपस्थित थे.