खंबाला में कोरोना से ज्यादा भूख की चिंता

 शिरपुर तहसील में कोरोना के अधिक मरीज

400 का आंकड़ा पार

धुलिया. जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या शिरपुर तहसील में सबसे अधिक है. यहां संक्रमितों का आंकडा 400 पार हो गया है. जिनमें तहसील का ग्रामीण क्षेत्र भी बुरी तरह प्रभावित है. तहसील के खंबाले गांव में पिछले कुछ दिनों से कोरोना माहामारी के चलते गांव की किराना दुकानें बंद हैं, जिससे रोजाना अनाज लेकर खाने वाले लोगों पर कोरोना से अधिक भुखमरी का खतरा मंडरा रहा है. तहसील के खंबाला में 10-12 दिन पहले कोरोना संक्रमित युवक की मौत हो गई थी, जिससे मृतक के परिवार के सदस्य व संपर्क में आये अन्य नागरिकों की कुल 12 रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी. जिससे गांव व तहसील प्रशासन द्वारा पूरा गांव सील किया गया था. 

दिहाड़ी मजदूरों की संख्या अधिक

खंबाले गांव में करीब 70-80 प्रतिशत नागरिक दिहाड़ी कर पेट पालने वाले हैं. ग्रामीण क्षेत्र की जीवनरेखा होने वाली किराना दुकानें भी करीब सप्ताह तक बंद रही थीं. जिसका सबसे बुरा असर गरीब लोगों पर पडटा. खासकर भील समुदाय के लोगों पर. रोजाना किराना दुकान से गेहूं, चावल आदि अनाज लाकर खाने वाले इन लोगों पर भुखमरी की नौबत आ गई. जिससे कोरोना से ज्यादा चिंता इन्हें भूख की सताने लगी. कुछ दिन तक जोयदा, सांगवी, आंबा में खंबाले गांव के नागरिकों से सारा व्यवहार बंद किया गया था. उन्हें खड़ा तक नहीं होने नहीं दिया जाता था. जिससे उन्हें खाने के लिए दाना तक मिलना मुश्किल हो गया था. हालांकि परिस्थिति अब सामान्य हो रही है. 

पोजिटिव को चार दिनों में छोड़े जाने की चर्चा

खंबाले में करीब 12 संक्रमित पाए गए थे. जिन्हें तहसील से आकर एंबुलेंस शिरपुर ले गई. किंतु पॉजिटिव होने के बावजूद उन्हें उप जिला अस्पताल के बजाय कोविड सेंटर मे रखे जाने की चर्चा गांव में है. वहीं पॉजिटिव होने के बावजूद महज 4-5 दिनों में घर भेजे जाने की चर्चा भी नागरिकों में है.