17 to 4 days public curfew in Gadchandur

बोदवड़. ‘कोरोना’ वायरस के कहर को रोकने के लिए प्रशासन द्वारा स्वेच्छा से आयोजित किए गए ‘जनता कर्फ्यू’ को पहले दिन शहर में सहज प्रतिक्रिया मिली. शहर के साथ तहसील में कोरोना रोगियों की बढ़ती संख्या ने कई लोगों के मन में चिंता पैदा कर दी है. उस पृष्ठभूमि के खिलाफ व्यापारियों, पुलिस प्रशासन, नगरीय प्रशासन और राजस्व विभाग की एक संयुक्त बैठक 16 तारीख को शहर के गांधी चौक में आयोजित की गई थी. इसमें 19 और 20 सितंबर को बोदवड़ में दो दिनों के ‘जनता कर्फ्यू’ लगाया गया था.

पहले दिन दूध-चिकित्सा को छोड़ सभी दुकानें बंद

 पहले दिन चिकित्सा, दूध और चिकित्सा सुविधाओं को छोड़कर शहर के सभी प्रतिष्ठान बंद थे. साथ ही  पुलिस, राजस्व और नगर पंचायत के दस्ते शहर में गश्त कर रहे थे. शहर में बंद के आह्वान के कारण हर जगह शांति थी और सड़कों पर कोई यातायात नहीं देखा गया. इस बीच पुलिस निरीक्षक बलिराम हीरे ने नागरिकों से अपील की है कि वे रविवार को और शनिवार को भी जनता कर्फ्यू का पालन करें और सरकार के दिए  निर्देशों का पालन करें.