मराठा क्रांति मोर्चा का सरकार को अल्टीमेटम

  • शरद पवार के घर के सामने होगा आंदोलन

नाशिक. मराठा आरक्षण (Maratha Reservation) के मुद्दे पर मराठा क्रांति मोर्चा (Maratha Kranti Morcha) ने आक्रमक भूमिका अपनाते हुए अब राकापां के अध्यक्ष शरद पवार के निवास स्थान पर मोर्चा निकालने की चेतावनी दी है. मराठा विद्यार्थियों का मामला 2 दिसंबर तक हल करने का अल्टीमेटम मराठा क्रांति मोर्चा ने सरकार को दिया है.

मराठा क्रांति मोर्चा की शनिवार को नाशिक में एक महत्वपूर्ण बैठक हुई. मराठा समाज के विद्यार्थियों की शैक्षणिक समस्याओं का समाधान नहीं किया गया, तो राकांपा के अध्यक्ष शरद पवार के बारामती वाले घर पर मोर्चा निकाला जाएगा, ऐसी चेतावनी मराठा क्रांति मोर्चा ने दी है. मराठा क्रांति मोर्चा की इस आक्रमक भूमिका के कारण राज्य सरकार को सांप सूंघ गया है. 2 दिसंबर के दिन राज्य में मराठा आंदोलन की आग भड़कने की संभावना है.

पिछले कुछ महीनों से रुकी हुई 11वीं कक्षा की ऑनलाइन प्रवेश प्रक्रिया 26 नवंबर से शुरू कर दी गई है. इसमें मराठा आरक्षण को छोड़ कर प्रवेश प्रक्रिया शुरू की गई है. मराठा आरक्षण का मामला तुरंत हल करके प्रवेश प्रक्रिया शुरू ना की जाए, ऐसी मांग मराठा समाज की ओर से की गई थी. उसके बाद मराठा आरक्षण को स्थगिति मिलने से रुके हुए सभी शैक्षणिक प्रवेश शुरू करने का निर्णय राज्य सरकार ने लिया है. राज्य सरकार की इसी भूमिका पर मराठा समाज में गुस्सा पाया जा रहा है.