धार्मिक स्थलों पर मास्क अनिवार्य, 6 फीट की दूरी रखनी जरूरी

धुलिया. जिले में श्रद्धालुओं के लिए धार्मिक स्थल दर्शन, पूजा अर्चना करने के लिए फिर से खोल दिए गए हैं. जिला मजिस्ट्रेट और जिला कलेक्टर संजय यादव ने आदेश दिए हैं कि नागरिकों को इन स्थानों का जाते समय सामाजिक दूरी का पालन करना और मास्क पहनना अनिवार्य है. 

कलेक्टर  यादव ने कहा कि 14 मार्च, 2020 को लोक स्वास्थ्य, मंत्रालय, मुंबई विभाग द्वारा जारी आदेश के अनुसार, 13 मार्च, 2020 से राज्य में संक्रामक रोग अधिनियम की रोकथाम लागू है. कोरोना प्रावधानों के कार्यान्वयन के लिए अधिसूचना जारी की गई है. जिले में लॉकडाउन अवधि 30 नवंबर 2020 तक बढ़ा दी गई है.

प्रतिबंधों को किया जा रहा शिथिल

राज्य सरकार ने लॉकडाउन की अवधि के दौरान लगाए गए प्रतिबंधों को शिथिल करने के निर्देश 14 नवंबर 2020 को दिए हैं. तदनुसार कलेक्टर यादव ने 16 नवंबर, 2020 से जिले में धार्मिक अनुष्ठान पूजा अर्चना दर्शन की गतिविधियों को भविष्य में प्रतिबंधित क्षेत्रों को छोड़कर शुरू करने की अनुमति दी है. समय-समय पर प्रतिबंधित क्षेत्रों के रूप में घोषित किए जाने वाले क्षेत्रों  को छोड़कर शुरू करने के आदेश पारित किए हैं.

धार्मिक स्थलों की तय करें समय सीमा

प्रशासन ने पूजनीय दर्शनों की आदर्श आचार संहिता लागू करते हुए कहा कि नागरिकों के लिए धार्मिक स्थलों की समयसारिणी तय करें. थर्मल स्क्रीनिंग, हैंड वाश या सैनिटाइज़र प्रदान करने के लिए संबंधित संस्थान के बोर्ड, ट्रस्ट बोर्ड और प्राधिकरण की ज़िम्मेदारी होगी. दर्शन के लिए आने वाले नागरिकों को एक दूसरे से 6 फीट की दूरी रखने की आवश्यकता होगी.  फेस मास्क का इस्तेमाल करना अनिवार्य है.  साबुन (कम से कम 40 से 60 सेकंड) का उपयोग करके अपने हाथों को धोएं या  सैनिटाइज़र (कम से कम 20 सेकंड) का उपयोग करें.  जब छींक, खांसी आए तो टिशू पेपर, रूमाल का उपयोग करें, हाथ के कोने को मोड़ें और फिर टिशू पेपर को ठीक उपयोग करें. बीमारी के किसी भी लक्षण का अनुभव होने पर नागरिकों को राज्य हेल्पलाइन (104, 020-26127394) या जिला हेल्पलाइन (1077, 02562 – 297141, 288320, 240896) से संपर्क करना चाहिए.

थूकने वालों पर गिरेगी गाज

धार्मिक स्थलों और पूजा स्थलों पर जाते समय नागरिकों को थूकने पर प्रतिबंध लगाया गया है.  थूकने वालों को दंडित किया जाएगा.  इसके अलावा, अरोग्य सेतु एप को डाउनलोड और उपयोग करना अनिवार्य होगा. इसी तरह से सामाजिक दूरी का अनुसरण करके कतारें बनाएं.  प्रवेश और निकास के लिए अलग व्यवस्था कराई जाए.  प्रवेश के बिंदु पर, नागरिकों को एक दूसरे से 6 फीट की भौतिक दूरी रखने के निर्देश के साथ ही  बैठने की व्यवस्था सामाजिक दूरी के बाद की जाए.  वातानुकूलित में, वेंटिलेशन हॉल CPED विभाग के निर्देशों का पालन करें.  एसी का तापमान 24-30 सेल्सियस और सापेक्ष आर्द्रता 40-70 प्रतिशत के बीच होना चाहिए. मूर्तियों, पवित्र पुस्तकों को नहीं छुआ जा सकता है.

भारी भीड़ पर लगे प्रतिबंध

धार्मिक आयोजनों और समारोहों की बड़ी भीड़ पर प्रतिबंध लगाया जाए.  कोविड-19 वायरस संक्रमण, खतरे को देखते हुए रिकॉर्ड किए गए धार्मिक गीत, संगीत का उपयोग किया जाए.  चर्च में समूह गायन या गाना बजाने वालों पर प्रतिबंध  है. नमस्कार करते समय शारीरिक संपर्क से बचें.  बार-बार चटाई का उपयोग न करें.  प्रार्थना के लिए आते समय अपनी चटाई का उपयोग करें. पूजा स्थलों और धार्मिक स्थानों पर प्रसाद, पवित्र जल, छिड़काव आदि की अनुमति दी जाएगी, लेकिन प्रसाद वर्जित रहेगा. भौतिक दूरी पर वितरण के लिए सामूहिक रसोई, लंगर, भोजन दान आदि की अनुमति होगी.

कीटाणु नाशक दवाओं का छिड़काव

हाथ और पैर धोने, शौचालय आदि जगहों पर एक निश्चित अवधि के बाद कीटाणुशोधन की आवश्यकता होगी.  पूजा के स्थानों में स्वच्छता बनाए रखने के लिए, एक निश्चित अवधि के बाद कीटाणुशोधन किया जाना चाहिए और संक्रमण को रोकने के लिए योजना बनाई जाए. मास्क, दस्तानों को उचित स्थान पर रखें. धार्मिक स्थानों पर काम करने वाले श्रमिकों कोविड-19 सुरक्षा नियमों के अनुसार आवश्यक पालन किया जाए.  भीड़भाड़ वाले स्थानों पर काम करने वाले श्रमिकों को सप्ताह में एक बार कोविड-19 का परीक्षण कराया जाए. रेस्तरां और शौचालय जैसी जगहों पर भीड़ से बचें. सभी धार्मिक स्थानों (जैसे संख्या, स्थान और दूरी आदि) की  जानकारी गारंटी के साथ स्थानीय पुलिस प्रशासन और स्थानीय  निकायों को प्रस्तुत की जाए.

मरीज मिलते ही करें दवा का छिड़काव

यादव ने कहा है कि अगर कोई संक्रमित व्यक्ति मिला तो प्रभावित क्षेत्र को कीटाणुरहित करें.  राज्य सरकार द्वारा समय-समय पर जारी किए गए आदेशों, निर्देशों, विनियमों (एसओपी) के अनुसार समय-समय पर जारी किए गए सभी आदेश कोरोना वायरस के संबंध में निवारक उपायों के कार्यान्वयन के संबंध में लागू होंगे.  इस आदेश का उल्लंघन भारतीय दंड संहिता, 1860 (45), धारा 51 से 60 तक आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 की धारा 188 के तहत दंडनीय होगा.