शोले स्टाइल में आंदोलन, पानी की टंकी पर चढ़े 8 किसान

  • मकई की ऑफ लाइन खरीदी रद्द करने से नाराजगी

सटाणा. सेंट्रल बेसिक स्कीम के तहत मकई की ऑफलाइन खरीदी रद्द करने के मार्केटिंग फेडरेशन के अचानक  आए आदेश से नाराज 8 किसानों ने बुधवार को तहसील यार्ड में पानी की टंकी पर चढ़कर शोले फिल्म की स्टाइल में आंदोलन किया. 

बागलान तहसील में किसानों ने 10,000 से अधिक क्विंटल मकई आधारभूत स्कीम में ऑफलाइन बेचा था. इस बीच 8 दिन पहले मार्केटिंग फेडरेशन ने किसानों को खरीदी गई मकई को वापस करने का आदेश दिया. नतीजतन, किसानों में गुस्से की लहर दौड़ गई और बुधवार को दोपहर करीब 2.30 बजे 8 नाराज किसान अचानक तहसील यार्ड में पानी की टंकी पर चढ़ गए और शोले स्टाइल में आंदोलन शुरू कर दिया.

स्वाभिमानी शेतकरी संगठन के जिलाध्यक्ष सुभाष अहिरे और गणेश काकुल्ले ने भी आंदोलन का समर्थन किया. इस बीच, तहसीलदार जितेंद्र इंगले पाटिल, पुलिस निरीक्षक नंदकुमार गायकवाड़ और सहायक रजिस्ट्रार महेश भड़ंगे ने शाम करीब 7 बजे प्रदर्शनकारियों के साथ चर्चा की. उन्होंने कहा  कि ऑफलाइन खरीदी गई मकई को मूल मंडी में शामिल किया जाना चाहिए, अन्यथा 5 नवंबर के बाद फिर से आंदोलन किया जाएगा.