स्वच्छता के प्रति लापरवाही, बस स्टैंड बना गंदगी का अड्डा

शिदखेड़ा. शहर के बस डिपो  प्रांगण में कचरा -कूड़ा और गंदगी का साम्राज्य है. स्थानीय नगर पंचायत प्रशासन द्वारा स्वच्छता के प्रति लापरवाही बरती जा रही है. बस स्टैंड में सूअरों की आवाजाही से स्वच्छता अभियान की धज्जियां उड़ा रही हैं. कोरोना संक्रमण के बीच बस सेवा शुरू होने के बाद सूने पड़े बस स्थानक में अब  प्रवासी दिखाई दे रहे हैं. तहसील मुख्यालय होने से शहर में हर रोज विविध कामों से अनेक शासकीय कार्यालय में ग्रामीण भाग के नागरिक आते हैं. बस स्टैंड में गंदगी का साम्राज्य है. लॉक डाऊन के बाद स्वच्छता के प्रति नगर पंचायत उदासीन है.

शिंदखेडा तालुका पूर्व मंत्री  तथा वर्तमान विधायक रावल का तालुका है. दिन में सूअर बस डिपो में घूमते रहते हैं. जिससे सफर करने वाले नागरिकों के बीमार पड़ने का डर है. इसका जिम्मेदार कौन?  यह नागरिकों के जीवन से खिलवाड़ है. ग्रामीण भाग से आने वाले नागरिकों का पहला कदम, शिंदखेड़ा बस डिपो में ही आता है. बस डिपो के सफाई कर्मचारी अपनी मनमर्जी से  काम करते हैं. डिपो में कचरे का साम्राज्य रहने की बात आसपास वाले व्यावसायिक भी कहते हैं.