Nashik Municipal Corporation

    नाशिक. राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे (Health Minister Rajesh Tope) ने हाल ही में 18 जिले के होम आइसोलेशन रद्द (Home Isolation Canceled) करने का निर्णय लिया, जिसमें नाशिक (Nashik) शामिल नहीं है। फिर भी नाशिक महानगरपालिका (Nashik Municipal Corporation) ने भी होम आइसोलेशन रद्द करने का निर्णय लेने वाली है। घर में उपचार लेने वाले मरीजों को कोविड सेंटर में दाखिल करने के संकेत नाशिक महानगरपालिका कमिश्नर कैलाश जाधव ने दिए। वर्तमान में 5,813 कोरोना मरीज नाशिक में हैं। 

    इसमें से 2,435 मरीज घर में ही उपचार ले रहे हैं। कोरोना की पहली लहर कम होने के बाद अधिक से अधिक मरीजों ने होम आइसोलेशन में रहना पसंद किया। पहली लहर में उपचार के लिए डॉ. जाकिर हुसैन और बिटको अस्पताल सहित 4 कोविड सेंटर शुरू किए गए थे।

    अस्पतालों में नहीं थी व्यवस्था

    पहली लहर के दौरान शहर के निजी अस्पताल में बेड की संख्या बढ़ाई, लेकिन महामारी कम होने पर धीरे-धीरे कोविड केयर सेंटर और निजी अस्पताल के बेड की संख्या कम की गई, लेकिन अप्रैल माह में एक दिन में दो से ढ़ाई हजार मरीज सामने आने के बाद शहर में एक समय साढ़े छह हजार बेड उपलब्ध होने के बाद एक्टिव मरीजों की संख्या 28 हजार तक पहुंची। इसलिए घरों में ही मरीजों पर उपचार करना शुरू किया। आज की स्थिति में बिटको अस्पताल सहित समाज कल्याण, डॉ. जाकिर हुसैन, राजे संभाजी स्टेडियम, मेरी कोविड सेंटर में बड़ी संख्या में बेड रिक्त है। 4 कोविड सेंटर 90 प्रतिशत रिक्त है। मनपा ने एक्टिव मरीज संख्या, उपलब्ध बेड की संख्या और कोविड सेंटर के बेड कम करने की प्रक्रिया शुरू करते हुए यहां पर मरीजों को दाखिल करने पर विचार विमर्श कर रही है।

    होम आइसोलेट मरीजों की ली जा रही जानकारी

    घरों में उपचार लेने में मरीजों की स्थिति का जायजा लिया जा रहा है। इन मरीजों के पास स्वतंत्र रूम, बाथरूम की व्यवस्था न होने पर उन्हें कोविड सेंटर में दाखिल किया जाएगा, क्योंकि कोरोना की दूसरी लहर कम हो रही है, लेकिन घरों में उपचार लेने वाले मरीजों से संक्रमन न बढ़े इसलिए राज्य सरकार ने 18 जिलों को रेड जोन घोषित किया है। इस बारे में जानकारी देते हुए मनपा कमिश्नर कैलाश जाधव ने कहा कि रेड जोन में नाशिक शामिल नहीं है। होम आइसोलेशन को लेकर निर्देश नहीं दिए गए हैं फिर भी मनपा ने तैयारी शुरू कर दी है। मनपा के अस्पताल के साथ कोविड सेंटर में घरों में उपचार लेने वाले मरीजों को दाखिल किया जाएगा। इसके लिए होम आयसोलेशन में होने वाले मरीजों का सर्वेक्षण करने के निर्देश दिए गए है।