मकई सहित बाजरा खरीदी के लिए ऑफलाइन पंजीकरण शुरू

येवला. सरकारी दलहन तिलहन खरीदी योजनांतर्गत शासन द्वारा मकई व बाजरा की खरीदी होगी. इसके लिए किसानों का ऑनलाइन पंजीकरण शुरू हो गया है. इस खरीदी के लिए येवला तहसील खरीदी केंद्र बिक्री संघ को मध्यस्थता के रूप में सरकार ने नियुक्त किया है. खरीदी के लिए अग्रिम पंजीकरण किया जाएगा.

पंजीकरण के पहले दिन करीब 500 किसानों की संघ कार्यालय के सामने कतारें लगीं. अधूरा मानव संसाधन व हमेशा की तरह सर्वर डाउन होने के कारण केवल दो किसानों का पंजीकरण हुआ. पंजीकरण में आने वाली समस्या को लेकर 15 दिनों पूर्व तहसीलदार येवला को पत्र देकर खरीदी बिक्री संघ से ऑफलाइन पंजीकरण करने की मांग प्रहार संगठन ने की थी, लेकिन संघ ने ऑनलाइन पंजीकरण करने से इंकार किया.

परिणाम स्वरूप पंजीकरण करने के लिए जमावड़ा लगा. किसानों की शिकायत के बाद प्रहार ने सहायक निबंधक व जिला मार्केटिंग अधिकारी से संपर्क करते हुए खरीदी बिक्री संघ को आफलाइन संबंधी पत्र दिया था, लेकिन यह प्रक्रिया संघ के हितों में बाधा आने से उन्होंने अपना परंपरागत कार्य जारी रखा.

इसके बाद प्रहार संगठन ने अक्रमक होते हुए सहायक निबंधक कार्यालय में जब तक ऑफलाइन पंजीकरण नहीं होता और किसानों को टोकन नहीं मिलता, तब तक कार्यालय नहीं छोड़ने की चेतावनी दी. इसके बाद संघ ने ऑफलाइन पंजीकरण कि मांग मान्य की. इस दौरान संगठन के तहसील अध्यक्ष हरिभाऊ महाजन, प्रहार जनशक्ती पार्टी के अमोल फरताले, किरण चरमल, शंकर गायके, वसंत झांबरे, सचिन पवार, गणेश लोहकरे, जगदीश गायकवाड़, दशरथ चव्हाण, अशोक पैठणकर, संतोष रंधे, सोमनाथ खुरसने आदि उपस्थित थे.