Economic crisis of farmers increased, distressed due to low price

  • प्याज उत्पादकों को दीपावली पर राहत

लासलगांव. राज्य सहित मध्यप्रदेश, आंध्रप्रदेश व कर्नाटक इस राज्य में नई लाल प्याज की आवक कम हुई है. दीवाली, साप्ताहिक अवकाश निमित्त गुरुवार 12 से 18 नवंबर के बीच निलामी बंद रहेगी. इसलिये सोमवार को लगातार कम होने वाले प्याज के दामों में 1200 की वृद्धि हुई. विगत सप्ताह में शनिवार की तुलना में सोमवार को गर्मी की प्याज को औसत दामों में 1250 रुपये और नई लाल प्याज के दामों में 550 रुपये प्रति क्विंटल की वृद्धि हुई. लासलगाव मंडी समिति में 447 वाहनों से 5 हजार 100 क्विंटल गर्मी के प्याज की आवक हुई. जिसे अधिकत्तम 4975 रुपये, सर्वसाधारण 4651 रुपये प्रति क्विंटल का दाम मिला.

साथ ही 13 वाहनों से 110 क्विंटल गर्मी के प्याज कि आवक हुई. जिसे अधिकत्तम 4300 रुपये सर्वसाधारण 3100 रुपये व न्युयनत्तम 2001 रुपये प्रतिक्विंटल का दाम मिला. प्याज के दामों को नियंत्रित रखने के लिये इजिप्त, इराण व तुर्की इस देश से प्याज आयात किया गया था. साथ ही नई प्याज की आवक की शुरुआत होने के बाद सप्ताह में सोमवार से शनिवार तक सात दिनों में अलग-अलग चरणों में प्याज के दामों में 22 रुपये की गिरावट दर्ज की गई. इससे प्याज उत्पादक किसानों को बड़े पैमाने पर नुकसान हुआ. किसानों में चिंता का माहौल निर्माण हुआ. लेकिन सोमवार को एक ही दिन में 1250 रुपये की वृद्धि हुई. इससे किसानों को राहत मिली है.  

विदेशी प्याज बेस्वाद

पिंपलगाव के एक व्यापाऱी ने तुर्की से सौ टन प्याज आयात की थी, जिसमें से कुछ प्याज पिंपलगाव बसवंत मंडी समिति में बिक्री हुई. जिसे 1381 रुपये प्रति क्विंटल का दाम मिला.  इस प्याज का स्तर खराब है और बेस्वाद है. इसके बाद विदेशी प्याज की मांग कम हो गई.