पुलिस थाने के बाहर बैनर पर लगाए गए तड़ीपार अपराधियों के फोटो

नाशिक. तड़ीपार होने के बाद अनेक गुन्हेगार शहर में ही छुपे होते हैं. ऐसा अपराधियों के छुपकर कारनामें करने पर रोक लगाने के लिये पुलिस ने एक अनोखा उपाय ढूंढ निकाला है. पंचवटी पुलिस थाना के बाहर एक बैनर लगाया गया है, जिस पर ऐसा तड़ीपार अपराधियों के फोटो लगाए गए हैं, जिन्हें विभिन्न पुलिस थानों के इलाकों से शहर बदर किया गया है. ऐसा करने से सामान्य नागरिक भी गुन्हेगारों को पहचान लें.

हर साल की तरह त्यौहारों के दिनों में तड़ीपार गुन्हेगारों की गुंडागर्दी बढ़ गई है. खरीदारी के लिये घर से बाहर निकले नागरिकों के सामान की लूट होने से सामान्य नागरिकों में डर का माहौल बना हुआ है. इस पृष्टभूमि में पुलिस आयुक्त दीपक पांडे की संकल्पना से गुन्हेगारों के चेहरे बैनर के द्वारा शहर के आम लोगों की नजरों में भी आ गए हैं, जिससे लोगों को गुन्हेगारों की जानकारी प्राप्त हो रही है. ऐसा करने से लोग ऐसे अपराधियों से बच सकेंगे, ऐसा पुलिस का मानना है. शहर में तड़ीपार अपराधियों के खुलेआम घूमने की सूचना पुलिस तक पहुंची थी, जिस पर एक्शन लेते हुए पुलिस आयुक्त ने ऐसा कदम उठाया है. शहर में घूमने वाले तड़ीपार अपराधियों की सूचना देने का आह्वान नागरिकों से किया गया है.

सूचना देने वाले की पहचान गुप्त रखने का वादा पुलिस विभाग ने किया है. बैनर पर लगे फोटो को देखकर नागरिक तड़ीपार अपराधियों को आसानी से पहचान सकेंगे और शहर में कहीं यह अपराधी दिखाई दें तो सीधे लोग अपने इलाके के पुलिस थाना को सूचित कर सकेंगे. सहायक पुलिस आयुक्त विभाग में एक ओर गुन्हेगारों की तडीपारी के 45 प्रस्ताव भेजे गए थे. उनमें से 5 अपराधियों की जांच हो रही है और 40 में से 30 अपराधियों को तड़ीपार के आदेश पंचवटी, म्हसरूल, आडगांव पुलिस थानों में पहुंचे हैं. कुल मिलाकर 48 गुन्हेगारों को तडीपार किया गया है. इनमें से कोई भी तड़ीपार शहर में दिखाई दिया तो उसपर प्रतिबंधात्मक कार्रवाई करना पुलिस के लिये आसान होगा. 

तड़ीपार अपराधी शहर के कई इलाकों में देखे गए हैं. इसलिये उन्हें पकड़ने के लिये कड़ी कार्रवाई करते हुए आयुक्तालय ने एैसा निर्णय लिया है कि सामान्य लोगों को ऐसा अपराधियों की पहचान हो और यह जहां कहीं भी दिखाई दें तो शहरी भी इन्हें पकडने में पुलिस की सहायता कर सकें. सूचना देने वाले नागरिक की पहचान गुप्त रखी जाएगी. 

-प्रदीप जाधव, सहाय्यक पुलिस आयुक्त