PM मोदी ने दी किसानों को असली आजादी दी : बबनराव चौधरी

शिरपुर. विधायक काशीराम पावरा के नेतृत्व में भाजपाई शिष्टमंडल ने महाराष्ट्र में कृषि विधेयक लागू करने की मांग को लेकर तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा है. प्रदेश की आघाडी सरकार की किसान विरोधी नीति का भाजपाइयों ने विरोध दर्शाया है. वहीं अध्यादेश को स्थगन आदेश की होली जलाई है.

तीन विधेयक पारित करने पर काशीराम पावरा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद में किसान विधेयक को पारित करके सही अर्थों में किसानों की प्रतिष्ठा बढ़ाई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के एकमात्र नेता हैं जो किसानों के हित में निर्णय लेते हैं.  आजादी के 70 साल बाद भी किसानों को आजादी नहीं मिली.  आजादी की सुबह अब उनके जीवन में आ गई है.  नया कानून उन लोगों की दुकानों को बंद कर देगा जो किसानों के वित्तीय हितों को बाधित कर रहे थे और दलाली के माध्यम से अपनी दुकानें चला रहे थे.

भाजपा पूर्व जिला अध्यक्ष बबन राव चौधरी ने कहा कि  कांग्रेस और वामपंथी देश और राज्य में इस किसान हितकारी विधेयकों का विरोध करने के लिए आगे आ रहे, लेकिन किसानों ने निर्णय का जोरदार स्वागत किया. शिरपुर तहसीलदार आबा महाजन को  ज्ञापन सौंपा गया, जिसमें राज्य में कृषि अधिनियम को तत्काल लागू करने और राज्य सरकार द्वारा लागू की गई रोक को हटाने की मांग की गई. इसके बाद भारतीय जनता पार्टी की ओर से केंद्र सरकार के फैसले को टालने और विधेयक को लागू करने के रोक के आदेश की होली जलाई गई.

इस अवसर पर भाजपा तालुकाध्यक्ष किशोर माली, शहराध्यक्ष हेमंत पाटिल, अरुण धोबी, शिरपुर पं. स. सभापति सत्तार सिंह पावरा, भाजपा जिला चिटणीस चंद्रकांत पाटिल,  संजय आसापूरे, एन. डी. पाटिल, जि. प. सदस्य देवेंद्र पाटिल, महेंद्र पाटिल, प्रशांत चौधरी, नितीन राजपूत, संजय चौधरी, शामकांत ईशी, सुरेंद्र राजपुत, पिंटु बंजारा, भास्कर बोरसे, मुबीन शेख, दिलीप पटेल, जगतसिंह राजपूत, रफिक तेली, सुनिल चौधरी, राजूलाल मारवाडी, श्रीकृष्ण शर्मा, हिरालाल कोली, अविनाश शिंपी, अनिल गुजर, अनिल बोरसे, भालेराव माली, प्रकाश गुरव, हेमराज राजपुत, सुनिल मगरे, भास्कर सोनवणे आदि प्रमुख रूप से उपस्थिति थे.