Rural hospital closed for 3 days, inconvenience to patients due to closure

  • लाख कोशिश के बावजूद थम नहीं रहा कोरोना
  • सेना ने की निजी अस्पतालों को अधिग्रहित करने की मांग

भुसावल. शहर में कोरोना का कहर लगातार जारी है, जो थमने का नाम नहीं ले रहा है. भुसावल शहर सहित तहसील में संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. कोरोना मरीजों की तुलना में सरकारी अस्पतालों में सुविधा कम पड़ रहा है. ऐसे में बीमारियों से बचने के लिए नागरिक निजी अस्पतालों का सहारा ले रहे हैं, ऐसे में निजी अस्पताल लोगों से मनमाने तरीके से कोरोना संक्रमण का इलाज करने का शुल्क वसूल रहे हैं.

शिवसेना ने मुख्यमंत्री को दिया ज्ञापन

एक तरह से निजी अस्पतालों ने इस नाजुक दौर में नागरिकों से लूट मचा रखी है और उनका शोषण कर रखा है. ऐसे अस्पतालों को तुरंत सरकार अधिकृत कर कानूनी कार्रवाई करे, ऐसी मांग शिवसेना ने ज्ञापन सौंपकर मुख्यमंत्री से की है. शिवसेना ने मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपकर भुसावल के निजी अस्पतालों द्वारा कोरोना पीड़ित व्यक्तियों से होने वाली लूट खसोट रोकने की गुहार लगाई है.

सरकारी आदेश को दिखा रहे ठेंगा

शहर के अस्पताल बार-बार स्वास्थ्य मंत्री के आदेश को नज़रंदाज़ कर रहे हैं. सेना ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री तत्काल शहर के अस्पतालों का अधिग्रहण कर मरीजों का इलाज कराएं और बढ़ते नए मरीजों के लिए कोविड अस्पताल का निर्माण कराएं, ऐसी मांग भुसावल शिवसेना के अध्यक्ष नीलेश महाजन ने मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में मांग की है.

मरीजों को उपलब्ध कराएं इलाज

नीलेश महाजन ने कहा के शहर के अस्पताल लूट के बाजार बन गए हैं और मरीजों की सेवा करने में अयोग्य साबित हो रहे हैं. शिवसेना शहर अध्यक्ष ने आज मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर उनसे शहर के अस्पतालों को प्रशासन के कब्ज़े में लेने को कहा और रोगियों के इलाज के लिए सुविधा उपलब्ध कराने की गुहार लगाई है.