टीकाकरण के नाम पर पार्षदों का प्रचार अभियान, नागरिकों में घोर आक्रोश

    नाशिक. केंद्र सरकार (Central Government) वैक्सीन उपलब्ध कराती है। राज्य सरकार योजना बनाती है और नाशिक माहानगरपालिका (Nashik Municipal Corporation) टीकाकरण गतिविधियों (Vaccination Activities) को अंजाम देता है। लेकिन शहर के कुछ नगरसेवक (Corporators) यह दिखावा कर बैनर (Banner) लहरा रहे हैं कि वे सब कुछ कर रहे हैं। इस बात को ले कर जागरूक नागरिकों में भारी रोष है। ऐसे अनाधिकृत बैनरों को हटाने की मांग की जा रही है।

    इस बीच महानगरपालिका के अतिक्रमण उन्मूलन विभाग ने टीकाकरण केंद्र से राजनीतिक बैनर और पार्टी के झंडे हटाने शुरू कर दिए। टीकाकरण अभियान जनवरी में शुरू हुआ था। अब 6 महीने हो गए हैं। नाशिक महानगरपालिका ने शहर के विभिन्न हिस्सों में नागरिकों को मुफ्त टीके उपलब्ध कराने के लिए सुविधाएं तैयार की हैं। कोविशील्ड और कोवैक्सीन के टीके उपलब्धता के अनुसार दिए जाते हैं। हर दिन लंबी कतार लगती है। प्रारंभ में, वरिष्ठ नागरिकों की संख्या अधिक थी। अब 18 वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोगों को टीका लगाया जाता है। ऐसे में भीड़ और भी बढ़ गई है। उसी का फायदा उठाया जाता है। अलग-अलग निर्वाचन क्षेत्रों के कुछ पार्षदों को मुफ्त प्रचार मिल रहा है जैसे कि यह उनकी पार्टी का कार्यक्रम हो।

    लोगों से टैक्स के रूप में मिलने वाले पैसे से जहां काम हो रहा है, वहीं कुछ पार्षद अपने स्वार्थ के लिए रोटियां सेंक रहे हैं। इसका नागरिक विरोध कर रहे हैं। कुछ नगरसेवक, जनप्रतिनिधि वास्तव में ईमानदारी से लोगों की मदद करते हैं। लेकिन कुछ लोग स्व-संगठित उत्सव होने का दिखावा करते हैं। वे हर जगह बैनर लगाते हैं और बैनर पर कोई टैक्स दिए बिना निगम को धोखा देते हैं। इसको लेकर नागरिकों में आक्रोश है, सामान्य नागरिक निजी अस्पताल में जाकर टीका लगवाने का जोखिम नहीं उठा सकते। उन्हें शहर टीकाकरण केंद्र का सहयोग प्राप्त है, इसलिए प्रत्येक टीकाकरण केंद्र पर संबंधित अधिकारियों और नोडल प्रमुखों के फोन नंबर देना जरूरी है।

    महानगरपालिका के अधिकारी अपनी जिम्मेदारी से बचते हुए टीकाकरण केंद्र पर मौजूद रहें, ऐसी भी मांग है। यदि ऐसा होता है तो टीकाकरण का समन्वय किया जाएगा और खुराक को बर्बाद किए बिना टीकाकरण अभियान ठीक से चलाया जाएगा। रोहन देशपांडे, उपाध्यक्ष, मनसे सहकारिता विभाग और उनके सहयोगियों ने नाशिक रोड के वार्ड 20 में लगाए गए अनधिकृत बैनरों को तुरंत हटाने के लिए महानगरपालिका को धन्यवाद दिया। शहर के अन्य वार्डो से भी इस प्रकार के बैनर हटाए जाऐं ऐसी मांग शहर के विभिन्न वार्डों से आ रही है।