भ्रष्टाचार में घिरे उपायुक्त गोसावी को हटाएं

  • विधायक शाह ने की मांग

धुलिया. विधायक फारुख शाह ने महानगर पालिका प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाते हुए महानगर पालिका को भ्रष्टाचार का अड्डा बताया. उन्होंने आरोप लगाए हैं कि उपायुक्त भ्रष्टाचार में घिरे हैं, उन्हें तत्काल प्रभाव से कार्यमुक्त किया जाए, इस तरह की मांग उन्होंने मनपा कमिश्नर अजीज शेख से की है.

वाटर ग्रेस कंपनी में हिस्सेदारी का आरोप

वाटर ग्रेस कंपनी नियमों की धज्जियां उड़ा कर महानगर निगम प्रशासन को करोड़ों का चूना लगा रही है. उपायुक्त इसमें हिस्सेदार हैं. संबंधित कंपनी पर कार्रवाई ना करते हुए उसे प्रोत्साहन दे रहे हैं. इसी तरह विधायक शाह ने उपायुक्त शांताराम गोसावी पर भ्रष्टाचार में लिप्त होने के आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी पृष्ठभूमि भ्रष्टाचार युक्त है. इगतपुरी नगर पालिका में कार्यरत होने पर  रिश्वत के मामले  ने पकड़ा गया था.14-09-2010 से 18-12-2012 तक उन्हें निलंबित किया गया था.

सेवा पुस्तिका में भ्रष्टाचार पंजीकृत होने पर नहीं दी जाती अहम जिम्मेदारी

सरकार के नियमों के अनुसार, भ्रष्टाचार कर्मी की सेवा पुस्तिका में पंजीकृत होने के बाद उस अधिकारी को किसी भी वित्तीय लेनदेन से निपटने वाले दस्तावेज निपटाने के अधिकार नहीं दिए जाते हैं. किंतु महानगर निगम में उपायुक्त मोटी मलाई काट रहे हैं और भ्रष्टाचार में लिप्त वाटर ग्रेस कंपनी को अभय प्रदान कर रहे हैं. ऐसे अधिकारी से तुरंत महानगर के वित्तीय कार्यों का प्रभार तत्काल लेने की मांग महानगर निगम कमिश्नर अजीज शेख से विधायक फारूक शाह ने की है.