Samta Foundation is setting new dimensions, many public interest works have been done so far

    नाशिक. ग्रामीण और आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र में अपने मानवीय सेवा कार्य से समूचे राज्य को प्रभावित करने वाले समता फाउंडेशन (Samta Foundation) ने अपने सेवा कार्य के नए आयाम स्थापित किए। हाल ही में कोरोना महामारी (Corona Pandemic) से पीड़ित जरूरतमंद को वैक्सीन (Vaccine) मिले इसके लिए राज्य में समता फाउंडेशन ने व्यापक टीकाकरण अभियान (Vaccination Campaign) शुरू कर अपने अनूठे सेवा का परिचय एक बार फिर दिया। 

    समता फाउंडेशन ने पर्यावरण, जलसंधारण, लोक शिक्षा एवं स्वास्थ्य सेवा प्रशिक्षण कार्यक्रम के साथ बेरोजगारी के लिए आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र में अनूठा कार्य किया।

    हजारों स्वयंसेवक कर रहे सेवा कार्य

    समता फाउंडेशन ने अपने स्वनिधि से व्यापकता से स्वच्छ और सुंदर रिसोड का नारा देकर नगर विकास के सहयोग से परिसर में स्वच्छता एवं पर्यावरण को संतुलित रखने के लिए डंपिंग ग्राउंड को स्वच्छ कर वहां पर नर्सरी की फुलवारी सजाई। कृषि क्षेत्र में नई क्रांति कर शिरपुर पैटर्न की तर्ज पर सुंदर बांध का निर्माण किया। लोकसेवा यहीं उद्देश्य को अपना लक्ष्य बनाकर संस्थापक अध्यक्ष पुरुषोत्तम अग्रवाल के मार्गदर्शन में फाउंडेशन के विश्वस्त मधुसूदन अग्रवाल, व्यवस्थापकीय विश्वस्त रिचा अग्रवाल, विश्वस्त रवि अग्रवाल, स्वास्थ्य एवं सामाजिक सेवा उपक्रम प्रमुख तानाजी गोंड, कैदी पुनर्वसन का कार्य कर रहे दीपक लोया, शिक्षा उपक्रम प्रमुख प्रियंका घुले, कंप्यूटर एवं संगीत उपक्रम प्रमुख अनन्या अग्रवाल समेत हजारों स्वयंसेवक एवं कार्यकर्ता जनसेवा से समता फाउंडेशन के सेवा कार्य को सींच रहे हैं।