Sand mining on the banks of the river, action taken, villagers agitated in the pit

    देवला. सटाणा-देवला (Satana-Devla) सीमा के गिरणा नदी (Girna River) किनारे से अवैध रूप से खनन कर बालू चोरी की जा रही है। इस बारे में शिकायत करने के बाद भी प्रशासन द्वारा कार्रवाई नहीं की जा रही है।

    आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग को लेकर लोहोणेर और ठेंगोड़ा के ग्राम पंचायत सदस्य और ग्रामीणों ने गिरणा नदी किनारे हुए गड्ढे में ठिया आंदोलन (Protest) किया। इस दौरान सटाणा व देवला तहसील प्रशासन का विरोध जताया गया।

    आरोपियों ने किसानों का किया नुकसान

    कुछ दिन पहले बालू से भरा ट्रैक्टर प्याज के खेत में चलाने से किसान का नुकसान हुआ था। बीती रात बालू चोरी करते समय फसल को पानी देने के लिए बिछाई गई पाइपलाइन तोड़ दी गयी। इसके बाद ग्रामीण आक्रोशित हो गए। किसानों के साथ लोहोणेर-ठेंगोड़ा ग्राम पंचायत के सरपंच, उप सरपंच, सदस्य सहित ग्रामीणों ने गिरणा नदी किनारे से हो रही बालू चोरों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग को लेकर आंदोलन किया। इस समय लोहोणेर ग्राम पंचायत के सदस्य सतीश सोमवंशी, रतिलाल परदेशी, धोंडु आहिरे, चंद्रकांत शेवाले, निंबा धामणे, दिलीप भालेराव, दीपक बच्छाव, रमेश आहिरे, योगेश पवार, मच्छिंद्र बागुल, हिरामण बागुल, प्रल्हाद बागुल, रामदास उशिरे, पुलिस पाटिल अरुण उशिरे, ठेंगोडा ग्राम पंचायत के उपसरपंच नारायण निकम, ग्रा.प. सदस्य रवींद्र मोरे, तुलसीदास शिंदे, कचरुदास बागडे, प्रकाश बागुल आदि उपस्थित रहे।

    रात के समय बालू चोरी करने वालों से हमारा आर्थिक नुकसान हो रहा है, जिसका मुआवजा कौन देगा? शिकायत करने के बाद भी कार्रवाई नहीं की जा रही है। लोहोणेर- गोड़ा मंडल अधिकारी सहित पटवारी की जांच कर कार्रवाई करें।

    -बापू बागुल, किसान, लोहोणेर