किसान विरोधी कानून के खिलाफ हस्ताक्षर मुहिम

यावल.   केंद्र सरकार के किसान विरोधी काले कानून के खिलाफ भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की ओर से एक हस्ताक्षर अभियान किनगांव में चलाया गया. जिला परिषद गुटनेता तथा तहसील अध्यक्ष प्रभाकर सोनवने की अध्यक्षता में यह अभियान चलाया गया. इस समय कांग्रेस समूह के नेता शेखर पाटिल, पूर्व बाजार समिति के अध्यक्ष नितिन चौधरी, तालुका उपाध्यक्ष हाजी गफ्फार शाह, पूर्व पंचायत समिति के उपाध्यक्ष उमाकांत अबा पाटिल, सद्दाम शाह,उप सरपंच लतीफ तडवी, ग्रामपंचायत सदस्य किशोर पाटिल, रफीक तडवी और अन्य कार्यकर्ता उपस्थित थे.

इसके साथ ही वरिष्ठ कार्यकर्ता सुभाष महाजन, पूर्व उप सरपंच किरण महाजन साकली, पूर्व सरपंच समाधन सोनवने (थोरगव्हांन ),कांग्रेस यावल शहर अध्यक्ष कादिर खान, यूनुस भाई (साकली), संदीप सोनवाने, गोविंद पाटिल (मनवेल) गोकुल तायडे, गंगाराम तायड़े, राकां के अनवर भाई (साकली), वसीम खान, ग्राम पंच सदस्य जगदीश मराठे, सैयद अशपाक सैयद शौकत, सचिन चौधरी और कई अन्य पदाधिकारी और कार्यकर्ता भी उपस्थित थे.

2 करोड़ हस्ताक्षर वाला ज्ञापन राष्ट्रपति को देंगे

इस समय, मुख्य पदाधिकारी ने संबंधित किसानों की कई गंभीर समस्याओं पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की.कार्यक्रम के दौरान तहसील के कई कांग्रेस पदाधिकारियों, किसानों और खेतिहर मजदूरों ने ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए. पूर्व सरपंच दिलीप पाटिल, सरपंच सत्तार तडवी, गौरव महाजन आदि ने भी दहिगांव में इसी तरह का अभियान चलाया. इसके साथ ही  कोरपावली के पूर्व सरपंच और ग्रामीण सेवा फाउंडेशन के जिला अध्यक्ष जलील सत्तार पटेल, राजेंद्र पाटिल, पराग महाजन, मुक्तार पटेल, तालेब पटेल, नारायण अङ्कमोल  रवींद्र तायडे, एकनाथ महाजन, डॉ. राजू पटेल, इस्माइल तडवी, हामिद पटेल, अशोक तायडे और अन्य किसान कार्यकर्ता उपस्थित थे. इस बीच, सोनिया गांधी के माध्यम से 2 करोड़ हस्ताक्षर वाले एक ज्ञापन राष्ट्रपति को भेजे जाएंगे. इसलिए किसानों ने इस ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये.