FARMER RICE

    नाशिक. जिले में मानसून पूर्व बारिश (Rain) समाधानकारक होने के बाद किसानों (Farmers) ने खरीफ फसल की बुआई करने की तैयारी शुरू की है, लेकिन बारिश न होने से जिले में अब तक केवल 0.5 प्रतिशत बुआई हो पाई है। 

    मालेगांव (Malegaon) में (60 हेक्टेयर), नांदगांव (Nandgaon) में (61 हेक्टेयर) और बागलाण में (189 हेक्टेयर) क्षेत्र पर बुआई हुई है। यह जानकारी कृषि विभाग ने दी।

    6,65,582 हेक्टेयर क्षेत्र में बुआई का लक्ष्य

    जिले के सभी तहसीलों में मानसून पूर्व बारिश का जोरदार आगमन होने से खरीफ सत्र इस साल किसानों को लाभदायक होने की संभावना व्यक्त की जा रही थी इसलिए किसानों ने खरीफ सत्र बुआई पूर्व मशकत्त शुरू की, लेकिन दमदार शुरुआत के बाद पिछले 8-10 दिनों से बारिश नहीं हुई। परिणामस्वरूप खरीफ सत्र की बुआई में समस्या निर्माण हो गई है। जिले के विविध क्षेत्र में किसानों ने खरीफ सत्र के मकई और सोयाबीन की कुछ मात्रा में बुआई की, लेकिन तीन-चार दिनों में बारिश नहीं हुई तो दोबारा बुआई करनी होगी। इसके चलते किसान चिंता में दिखाई दे रहे हैं। पिछले साल इस समय तक 37 प्रतिशत (2 लाख 18 हजार हेक्टेयर) खरीफ फसल की बुआई हुई थी लेकिन इस साल केवल 310 हेक्टेयर क्षेत्र पर बुआई हो पाई है। कृषि विभाग ने जिले में 6 लाख 65 हजार 582 हेक्टेयर क्षेत्र में खरीफ सत्र के फसल की बुआई होने का लक्ष्य निश्चित किया है।