Strategy created by meeting doctors, experts ready to fight third wave

    नाशिक. शहर के मेयर सतीश कुलकर्णी (Mayor Satish Kulkarni) ने कहा कि अभिभावकों में जागरूकता पैदा की जाए कि नाशिक शहर (Nashik City) में कोई भी बच्चा कोरोना संक्रमित ना हो और यदि कोई बच्चा कोरोना संक्रमित है तो उसके इलाज (Treatment) की व्यवस्था की जाएगी। इस संबंध में नाशिक में बाल रोग विशेषज्ञों की एक ऑनलाइन बैठक (Online Meeting) आयोजित की गई जिसमें भविष्य में बच्चों पर कोरोना की तीसरी लहर का प्रभाव पड़ सकता है। 

    इसके मद्देनजर नाशिक मनपा द्वारा एक प्रणाली स्थापित की जा रही है और विभिन्न उपाय किए जा रहे हैं। उससे पहले यह सुनिश्चित करने के लिए पहला कदम उठाया जाएगा कि बच्चा कोरोना से संक्रमित न हो जाए और माता-पिता में जागरूकता पैदा करने का प्रयास किया जाएगा।

    शहर में टीकाकरण की गति को बढ़ाने पर दिया जोर

    मेयर सतीश कुलकर्णी ने कहा कि मनपा विभिन्न स्तरों पर दवाओं का पर्याप्त स्टॉक, बच्चों के लिए कोविड सेंटर उपलब्ध कराने के लिए भी काम करेगा और बच्चों को कोरोना से संक्रमित होने से रोकने पर अधिक जोर दिया जाएगा। बैठक के दौरान शहर के बाल रोग विशेषज्ञों ने अभिभावकों में कोरोना के प्रति जागरुकता, बच्चों में उत्पन्न होने वाले लक्षण, बच्चों के लिए नियम बनाना, अलग हेल्पलाइन स्थापित करना, अभिभावकों को कोरोना के प्राथमिक लक्षणों की जानकारी देना, माता-पिता को मार्गदर्शन प्रदान करना और गति बढ़ाने सहित विभिन्न मुद्दे उठाए। शहर में टीकाकरण की गति को बढाने पर भी जोर दिया गया। शिशुओं के लिए कोरोना दवाओं का पर्याप्त स्टॉकिंग, बाल रोग विशेषज्ञों और पैरामेडिक्स की उपलब्धता की योजना बनाना, कोरोना संक्रमित रोगियों के लिए गैर-कोविड और कोविड रोगियों के लिए अलग-अलग व्यवस्था, कोरोना जोखिम से बचने के लिए नवजात शिशुओं के लिए खास योजनाएं बनाना, वेंटिलेटर की उपलब्धता पर सभी सहभागी बाल रोग विशेषज्ञों ने सभी मुद्दों पर चर्चा की।

    चिकित्सा सेवकों को प्रशिक्षित करना जरूरी

    बैठक के दौरान चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बापूसाहेब नागरगोजे ने यह भी कहा कि बच्चों के इलाज के लिए चिकित्सा सेवकों को प्रशिक्षित करना जरूरी है और अगर उन्हें प्रशिक्षित किया जाता है, तो इससे मरीजों के लिए जनशक्ति की उपलब्धता में मदद मिलेगी। इस बैठक में आइएमए के अध्यक्ष डॉ. हेमंत सोननीस, सेक्रेटरी कविता गाडेकर, बाल रोग विशेषज्ञ अध्यक्ष डॉ. रविंद्र सोनवणे, सेक्रेटरी डॉ. रीना राठी, डॉ. रमाकांत पाटील, डॉ. मिलींद भराडीया, डॉ. सागर सोनवणे, डॉ. संजय आहेर, डॉ. नितीन सुराणा, मानसोपचार तज्ञ डॉ. श्रेयस गायधनी, डॉ. अमोल कुलकर्णी, अतिरिक्त आयुक्त डॉ. प्रवीण आष्टीकर, सफाई व्यवस्थापन विभाग की संचालिका डॉ. कल्पना कुटे, बाल रोग तज्ञ डॉ. नवीन बाजी, डॉ. शलाका बागुल, डॉ. ललित बागुल, डॉ. विनोद पावस्कर आदि उपस्थित रहे।