तहसील कृषि कार्यालय पर प्रहार का आंदोलन

  • लगातार बारिश से बर्बाद हुईं फसलें
  • फसलों के नुकसान का सरकार दे मुआवजे

 शिरपुर. तहसील में पिछले दिनों से लगातार रिमझिम जारी बारिश के चलते फसलों के सड़े पौधे टेबल पर रखकर प्रहार जनशक्ति पार्टी ने कृषि कार्यालय में आंदोलन किया. इस मौके पर तत्काल पंचनामा कर, मुआवजे की मांग की.

तहसील में पिछले दिनों से लगातार बारिश जारी है. इस कारण मूंग, उड़द, चावल आदि फसलें पूर्ण रूप से नष्ट हो चुकी हैं. आंदोलनकारियों ने कहा कि कोरोना महामारी से किसानों की कमर पहले से ही टूट चुकी है. आसमानी संकट ने किसानों को सड़क पर लाकर खड़ा कर दिया है. हर वर्ष मूंग, चावल की फसलें पहले हो जाने से किसानों के हाथ में कुछ पैसे आ जाते थे. किंतु फसल बर्बाद होने से इस साल किसानों के हाथ कुछ भी नहीं लगा.

साहूकारों के कर्ज से दबता जा रहा किसान

दूसरी ओर निजी साहूकारों द्वारा किसानों के जादा ब्याज लेने के कारण किसान दिन ब दिन कर्ज के बोझ तले दबता जा रहा है. किसानों की समस्याओं को देखते हुए तत्काल नुकसान का पंचनामा कर, मुआवजा देने की मांग प्रहार जनशक्ति पार्टी की ओर से की गई है. इस वक्त प्रहार जनशक्ति पार्टी के तहसील अध्यक्ष ईश्वर बोरसे, विजय कोली, स्वप्निल राजपूत, नितिन जाधव, निलेश कोली, मनोज राजपूत, मुकेश पाटील, महेंद्र पाटील, योगेश माली, प्रमोद बडगुजर, किशोर बोरसे, नाना माली आदि उपस्थित थे.