किसान आंदोलन पर चढ़ा राजनीतिक रंग

  • सदाभाऊ खोत ने लगाया आरोप

नाशिक. केंद्र सरकार के मंजूर किए कृषि विधेयक के विरोध में कुछ लोग राजनीतिक उद्देश्य से भ्रम फैला रहे हैं. दिल्ली का किसान आंदोलन भी इसी प्रकार के राजनीतिक उद्देश्य से प्रेरित होने का आरोप पूर्व कृषि राज्य मंत्री तथा रयत क्रांति संगठन के संस्थापक सदाभाऊ खोत ने शुक्रवार को नाशिक में एक पत्रकार परिषद में लगाया. इन तीनों कानूनों का समर्थन करने के लिए 6 दिसंबर को रयत क्रांति संगठन आजाद मैदान पर प्रदर्शन करेगी, ऐसी जानकारी भी सदाभाऊ खोत ने दी. 

विधेयकों के समर्थन में 6 को आजाद मैदान पर प्रदर्शन

केंद्र सरकार के मंजूर किए गए तीनों कृषि उत्पादन और व्यापार विधेयक किसानों के हित में है. इस कारण से कृषि उत्पन्न मंडी समिति तथा हमीभाव खरीदी केंद्र यंत्रणा को किसी भी प्रकार का धक्का नहीं पहुंचेगा. इसके उलट किसानों को मंडी समिति के प्रांगण के बाहर ही अपना माल बेचने का विभिन्न पर्याय निर्माण होगा. इससे मंडी समितियों और हमीभाव केंद्रों पर किसी भी प्रकार का बोझ नहीं पड़ेगा.