There is no shortage of urea in Maharashtra, technology will benefit farmers: Bhuse

    नाशिक. राज्य में खरीफ सीजन शुरू हो चुका है और इस संबंध में किसानों की कृषि गतिविधियां जोरों पर शुरू हो गई हैं। राज्य के कृषि मंत्री भूसे ने कहा कि आधुनिक तकनीक पर आधारित बीबीएफ बुवाई मशीन की मदद से फसलों की बुवाई करने से निश्चित रूप से किसानों (Farmers) की आय (Income) में वृद्धि होगी। कृषि मंत्री भूसे ने सिन्नर तहसील (Sinnar Tehsil) के वडगांव (Wadgaon) में भागवत बालक के खेत में राज्य स्तरीय कृषि पुनरुद्धार अभियान का उद्घाटन किया। वह इस अवसर पर बोल रहे थे। 

    इस अवसर पर जिला परिषद अध्यक्ष बालासाहब क्षीरसागर, पूर्व विधायक राजाभाऊ वाजे, जिला परिषद की मुख्य कार्यकारी अधिकारी लिना बनसोड, कृषि सहायक संचालक संजीव पडवल, जिला अधीक्षक कृषि अधिकारी विवेक सोनवणे, सिन्नर प्रांताधिकारी पुजा गायकवाड, उदय सांगले, कोंडाजीमामा आव्हाड, वडगाव की सरपंच मंदाकिनी काले आदि उपस्थित थे।

    1 जुलाई तक चलेगा कृषि पुनरुद्धार अभियान

    मंत्री भूसे ने कहा कि 21 जून 2021 से 01 जुलाई 2021 तक पूरे प्रदेश में कृषि पुनरुद्धार अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने आश्वासन दिया कि राज्य में खरीफ सीजन के लिए यूरिया का बफर स्टॉक किया गया है और महाराष्ट्र में यूरिया की कोई कमी नहीं होगी। खरीफ सीजन में सोयाबीन, अरहर, मूंग, उड़द, कपास, मक्का और चना बोने के लिए किसानों के लिए बीबीएफ बुवाई मशीन बहुत उपयोगी है। इस मशीन से बुवाई करने से इनपुट लागत में 20 से 25 प्रतिशत की बचत होती है और उपज में 25 से 30 प्रतिशत की वृद्धि सुनिश्चित होती है। उन्होंने यह भी कहा कि सूखा प्रभावित क्षेत्रों में इसका प्रभावी ढंग से उपयोग किया जा सकता है।

    किसानों से की बातचीत

    भूसे ने किसानों से बातचीत की। मंत्री ने किसानों की समस्याओं को जानते हुए खेतों के लिए बाड़ लगाने, सोयाबीन की खेती, नवीन प्रयोग, आधुनिक किस्मों, बीजों के उपयोग, कृषि योजनाओं पर भी विस्तृत मार्गदर्शन दिया। उन्होंने कहा कि इस वर्ष से फसल बीमा और फल फसल बीमा वैकल्पिक हो गया है और किसानों के हित में बीमा का बीड मॉडल केंद्र सरकार को सौंप दिया गया है। कोरोना काल में किसानों ने सब को खिलाया। हम पिछले एक साल से कोरोना संकट का सामना कर रहे हैं। 5 से 6 महीनों का लॉकडाउन का समय हम सबने अनुभव किया है। मंत्री भूसे ने कहा कि इस अवधि के दौरान, सभी लेनदेन बंद हो गए, लेकिन खाद्यान्न, सब्जियां, फल, दूध सभी समय पर पहुंच गया, इसका श्रेय मेरे किसानों को जाता है, किसान ने लॉकडाउन के समय में भूखों को खिलाया है। उनका काम चलता रहा तो लोगों के पेट भरते हैं। मुझे मेरे किसानों पर गर्व है। किसान भागवत बालक के खेत में बीबीएफ बुवाई मशीन द्वारा बुवाई प्रदर्शन प्रस्तुत किए गए।

    किसानों को किया गया सम्मानित

    इस अवसर पर एकात्मिक फलोत्पादन विकास कार्यक्रम के अंतर्गत लाभार्थी किसानों को ट्रैक्टर और बीज वितरण और पौधरोपण किए गए। मंत्री भुसे के हाथों वसंतराव नाईक कृषि भूषण पुरस्कार प्राप्त किसान कारभारी सांगले, वसंतराव नाईक कृषि खेती निष्ठ पुरस्कार प्राप्त किसान भागवत बलक, रामहरी सुरसे, बालासाहब मह्राले, आहिल्याबाई होलकर रोपवाटिका धारक महिला किसान अलका बोडके का सम्मान किया गया। साथ ही खरीफ मौसम 2019 के अंतर्गत बीबीएफ बुवाई तंत्रज्ञान घड़ी पत्रिका का विमोचन मंत्री भुसे के हाथों से किया गया।