sanjay raut

    नाशिक. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Chief Minister Uddhav Thackeray) ने दिल्ली (Delhi) में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) से निजी तौर पर मुलाकात के बाद से राज्य में राजनीतिक बहसें तेज हो गई हैं। इस बीच भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल (BJP State President Chandrakant Patil) ने पुणे में कहा था कि अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आदेश देते हैं तो हम भी बाघ से दोस्ती कर लेंगे। इस बीच शिवसेना नेता और सांसद संजय राउत (MP Sanjay Raut) ने पाटिल पर पलटवार किया है। 

    नाशिक के दौरे पर आए राउत ने मीडिया से बातचीत करते हुए पाटिल को जन्मदिन की बधाई दी। पाटिल के बयान ‘हम बाघ से भी दोस्ती करेंगे’ को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि उनके मन की मुराद पूरी हो, लेकिन बाघ से कोई दोस्ती नहीं कर सकता है, बाघ तय करता है कि किससे दोस्ती करनी है।

    राजनीतिक प्रचार न करें पीएम

    संजय राउत ने भाजपा की आलोचना करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना करने का मौका नहीं छोड़ा। प्रधानमंत्री देश के हैं, उन्हें राजनीतिक प्रचार नहीं करना चाहिए, पश्चिम बंगाल में जो हुआ वह गलत था। प्रधानमंत्री को राजनीतिक प्रचार नहीं करना चाहिए, चाहे वह मनमोहन सिंह हों या नरेंद्र मोदी। बालासाहब ठाकरे भी यही भूमिका निभाते थे। साथ ही भाजपा को जो सफलता मिल रही है वो मोदी के चेहरे की वजह से है। संजय राउत ने कहा कि केवल मोदी ही भाजपा के नेता हैं।

    स्वतंत्र रूप से लड़ेंगे चुनाव

    पुणे में एक समारोह में बोलते हुए चंद्रकांत पाटिल ने शिवसेना से दोबारा दोस्ती करने को लेकर बयान दिया था। उन्होंने कहा था हमारी कभी बाघ से दुश्मनी नहीं रही। उद्धव ठाकरे ने कहा था कि मोदी के साथ उनके दोस्ताना संबंध हैं। उन्होंने यह भी कहा कि उनकी फडणवीस और पाटिल से कोई दोस्ती नहीं थी। मुझे नहीं पता क्यों, लेकिन अगर बाघ से दोस्ती होती तो सरकार यहां 18 महीने पहले आ जाती। लेकिन अगर मोदी ऐसा कहते हैं तो उनका आदेश हमारे लिए एक आदेश है। हम नेता के कहने पर जो चाहें करेंगे, लेकिन अगर ऐसा होता भी है तो चुनाव स्वतंत्र रूप से लड़ा जाएगा।