नाशिकरोड मध्यवर्ती कारागृह में टीकाकरण, जेल में 2500 कैदी, 400 कर्मचारी

    नाशिकरोड. नाशिक महानगरपालिका (Nashik Municipal Corporation), बिटको अस्पताल (Bitco Hospital), जिला अस्पताल (District Hospital), जिलाधिकारी कार्यालय की मदद से नाशिकरोड मध्यवर्ती कारागृह (Nashik Road Jail)में कैदी और कर्मियों के लिए कोविड टीकाकरण (vaccination) शुरू किया गया है। कारागृह अधीक्षक प्रमोद वाघ, वरिष्ठ कारागृह निरीक्षक अशोक कारकर, कारागृह के चिकित्सा अधिकारी डॉ. सचिन कुमावत, डॉ. नीलकंठ ससाणे, बिटको अस्पताल के डॉ. जितेंद्र धनेश्वर ने अभियान शुरू किया। राज्य की जेलों में कोरोना का संक्रमण फैला हुआ है, जिसे नाशिकरोड जेल ने रोका है। कारागृह प्रशासन ने अब सभी ढाई हजार कैदी और 400 कर्मियों को कोविड टीका लगाने का संकल्प किया है। 15 दिनों में 1 हजार 400 कैदियों को टीका लगाकर कारागृह ने राज्य में अव्वल क्रमांक प्राप्त किया है। 

    मुंबई, पुणे, ठाणे कारागृह में भी टीकाकरण किया जा रहा है। सबसे अधिक टीकाकरण नाशिकरोड कारागृह में हुआ है। नाशिकरोड कारागृह में ढाई हजार कैदी हैं, इसमें सजायाफ्ता व कैदी शामिल हैं। 80 महिला कैदी हैं। इसके साथ ही कारागृह में 400 अधिकारी-कर्मी हैं, जिसमें से 300 कर्मियों को टीका लगाया गया है। इसमें कैदियों की संख्या अधिक है। 

    प्रतिदिन 150 से 200 को लग रहे टीके 

    कारागृह में प्रतिदिन 150 से 200 टीके उपलब्ध हो रहे हैं। इसलिए डेढ़ महीने में टीकाकरण पूर्ण होने का अनुमान है। के. एन. केला स्कूल में फिर से जेल शुरू किया गया है। नए कैदियों की कोरोना जांच करने के बाद उन्हें वहां पर रखा जा रहा है। 15 दिनों के बाद उन्हें कारागृह में भर्ती किया जा रहा है। कठोर उपायों के कारण नाशिकरोड कारागृह में कोरोना का प्रवेश नहीं हुआ है। कैदी-परिजनों के साक्षात्कार, आलिंगन उपक्रम, कैदी-वकील भेंट, सत्संग सहित अन्य उपक्रम बंद है। कैदियों को कोर्ट में ले जाने के बजाय वीडियो कॉंफ्रेंस के माध्यम से कोर्ट में पेश किया जा रहा है।